• Home
  • Bihar
  • Patna
  • Patna - कुछ लोगों के कारण भोजपुरी हुई बदनाम
--Advertisement--

कुछ लोगों के कारण भोजपुरी हुई बदनाम

भोजपुरी भाषा में दूसरी भाषाओं के युवा भी बतौर हीरो-हिरोइन काम कर रहे हैं। मधु शर्मा एक ऐसी ही सफल भोजपुरी हिरोइन...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 05:11 AM IST
भोजपुरी भाषा में दूसरी भाषाओं के युवा भी बतौर हीरो-हिरोइन काम कर रहे हैं। मधु शर्मा एक ऐसी ही सफल भोजपुरी हिरोइन हैं जो राजस्थान की रहने वाली हैं। पहले उन्हें इस भाषा की फिल्म करने से डर लगता था लेकिन अब वो लोगों से भोजपुरी फिल्म देखने की अपील करती हैं। उनसे बातचीत के अंश-

कुछ लोगों के कारण बदनामी

मधु ने कहा कि कुछ लोगों के कारण भोजपुरी फिल्में बदनाम हैं। कई फिल्मों में डबल मीनिंग डायलाॅग होते हैं, जिस कारण महिलाएं सिनेमा देखने नहीं जाती हैं। महिलाओं से अपील है कि फिल्में देखें। हर फिल्म डबल मीनिंग की नहीं होती है।

सात भाषाओं की फिल्मों में काम

राजस्थान की रहने वाली मधु बताती हैं कि मैंने सात भाषाओं की फिल्मों में काम किया है, जिसके कारण मुझे भोजपुरी बोलने में कोई खास परेशानी नहीं होती है। शुरुआत में थोड़ी दिक्कत हुई थी। अब आदत हो गई है।

जोड़ियां दर्शक तय करते हैं

वह कहती हैं कि भोजपुरी फिल्मों का दुर्भाग्य है कि यहां पर हर एक्टर और एक्ट्रेस की जोड़ी बन गई है। एक्टर तय करते हैं कि उनकी फिल्म में कौन एक्ट्रेस होगी, लेकिन दर्शक हर एक्टर को दूसरे एक्ट्रेस के साथ देखना चाहते हैं।

पहले भोजपुरी से डर लगता था

जब मैं साउथ की फिल्मों में काम करती थीं तो उस समय भोजपुरी का नाम सुनते ही डर लगने लगता था। इसके बारे में एक धारण बन चुकी थी कि भोजपुरी फिल्में ठीक नहीं बनती है। डबल मीनिंग का इस्तेमाल अधिक होता है, लेकिन मैंने इस इंडस्ट्री में जब काम करना शुरू किया तो साफ सुथरी फिल्मों को ही तरजीह दी।

‘एक दूजे के लिए’ से डेब्यू

मधु बताती हैं कि वे डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन मां के सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने फिल्मों में काम करना शुरू किया। 13 वर्ष की उम्र में मैने फिल्मों में अभिनय शुरू कर दिया था। फिल्म ‘एक दूजे के लिए’ भोजपुरी में मेरा डेब्यू था। इसके बाद मुझे कई और फिल्मों के ऑफर मिलने लगे।

राजस्थान की रहने वाली मधु बताती हैं कि मैंने सात भाषाओं की फिल्मों में काम किया है, जिसके कारण मुझे भोजपुरी बोलने में कोई खास परेशानी नहीं होती है। वह डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन मां के सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने फिल्मों में काम करना शुरू किया।