--Advertisement--

निराशाजनक / बिहार डिजिटल ट्रांजेक्शन में टॉप टेन राज्यों में नहीं



Bihar not in top ten states in digital transaction
X
Bihar not in top ten states in digital transaction

  • यहां लगातार बढ़ रही है कैश पर निर्भरता

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 05:05 AM IST

अमित सिन्हा, पटना. बिहार में कैश पर निर्भरता तेजी से बढ़ती जा रही है। नोटबंदी के दो साल पूरे होने के बाद जो स्थिति सामने आई है वह कैश ट्रेंड की अर्थव्यवस्था की ओर संकेत कर रही है। इस वर्ष 1 जनवरी से अबतक का जो आंकड़ा सामने आया है वह बता रहा है कि कैश डिपेंडेंसी बढ़ी है। बड़े राज्यों की लिस्ट में डिजिटल ट्रांजेक्शन के मामले में बिहार स्थान नहीं पा सका है।

 

आंध्रप्रदेश 143 करोड़ ट्रांजेक्शन के साथ टॉप पर है। बिहार में डिजिटल ट्रांजेक्शन तो कम हुआ ही है, आबादी के लिहाज से यह और चिंताजनक है। प्रति 1000 व्यक्ति पर ई-ट्रांजेक्शन मात्र 1189.35 ही हुआ है। हालांकि पूरे देश के आंकड़ों में छोटे ट्रांजेक्शन की संख्या बढ़ी है। इसमें ई-कामर्स का रोल अहम भूमिका में सामने आया है। इसमें इलेक्ट्रानिक्स और होम अपलायंसेज सेगमेंट जिसमें लैपटॉप और मोबाइल भी शामिल है काफी महत्वपूर्ण घटक हैं।

 

डिजिटल ट्रांजेक्शन
 

आंध्रप्रदेश     143.26 करोड़ 
तेलंगाना     99.03 करोड़ 
तमिलनाडु     32.58 करोड़ 
उत्तरप्रदेश     29.88 करोड़ 
प बंगाल     23.32 करोड़ 
राजस्थान     22.06 करोड़ 
केरल     41.32 करोड़ 
गुजरात     41.05 करोड़ 
मध्यप्रदेश     15.78 करोड़ 
महाराष्ट्र     12.78 करोड़ 
बिहार     12.34 करोड़

 

 

जीएसटी में भी बिहार काफी निराशाजनक स्थिति से गुजर रहा है। डिजिटल ट्रांजेक्शन गिरने का कारण जागरुकता की कमी है। लोग डिजिटल ट्रांजेक्शन को असुविधाजनक मानते हैं। बिहार में डिजिटल लिट्रेसी बढ़ाने की जरूरत है। हम बिहार सरकार के साथ एस्ट्रिक के मार्फत डिजिटल साक्षरता और जागरुकता की दिशा में काम कर रहे हैं। इंडस्ट्रीज के साथ-साथ छोटे उद्यमों को भी आगे आना होगा। -प्रभात कुमार सिन्हा, चेयरमैन, बिहार चैप्टर, सीआईआई


 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..