--Advertisement--

विकास विकास

विकास विकास

Danik Bhaskar | Mar 03, 2018, 01:13 PM IST

पटना. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि त्रिपुरा से वामपंथियों की विदाई के बाद अब केरल से भी उनका जाना तय है। पांच साल पहले जिस त्रिपुरा में भाजपा को मात्र डेढ़ प्रतिशत वोट मिला और मात्र एक उम्मीदवार की जमानत बच पाई थी वहां आज भाजपा ने दो तिहाई से ज्यादा 43 सीटों पर न केवल जीत हासिल की है बल्कि करीब 50 प्रतिशत वोट भी प्राप्त किया है।

त्रिपुरा और नागालैंड में जहां कांग्रेस का खाता नहीं खुल पाया है। वहीं, अब वह उत्तर पूर्व के एक राज्य मिजोरम के साथ देश के मात्र तीन राज्यों पंजाब और कर्नाटक तक सिमट कर रह गयी है और भाजपा अपने सहयोगियों के साथ 22 राज्यों में शासन कर रही है।

मोदी ने कहा कि उत्तर पूर्व के चुनाव परिणाम से यह साबित हो गया है वामपंथियों की हिंसात्मक राजनीति और कांग्रेस के भ्रष्टाचार से लड़ने की ताकत केवल भाजपा में ही है। केरल में कम्युनिस्ट अपनी अंतिम लड़ाई लड़ रहे हैं। आने वाले दिनों में केरल से वामपंथी और कर्नाटक से कांग्रेस का जाना भी तय है। भाजपा अब सही मायने में पूरे देश की पार्टी बन गई है।

त्रिपुरा में शून्य से शिखर तक का सफर तय कर वामपंथियों के गढ़ को ध्वस्त करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बधाई के पात्र हैं। यह भाजपा की सबका साथ-सबका विकास नीति की जीत है।