--Advertisement--

सिविल

सिविल

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 03:18 PM IST

पटना. शिक्षा विभाग ने स्कूली बच्चों के खाते में पोशाक, छात्रवृत्ति, साइकिल आदि की योजना की राशि 30 जनवरी तक भेजने की हिदायत दी है। लेकिन कई जिलों में तो अभी राशि निकासी भी नहीं हुई है, फिर बच्चों के खाते में जाएगी कैसे? यह बड़ा सवाल बना हुआ है। बांका और सुपौल में कक्षा एक से आठ तक के बच्चों के लिए पोशाक और छात्रवृत्ति की राशि राशि निकासी शून्य है। खगड़िया में छात्रवृत्ति की राशि निकासी शून्य है।

प्राथमिक स्कूलों के बच्चों के पोशाक की राशि निकासी में 10 जिलों में निकासी 50 प्रतिशत से कम है। इसमें सासाराम में मात्र 8 प्रतिशत निकासी हुई है, तो पटना में भी मात्र 18 प्रतिशत ही राशि निकासी हुई है। नवादा में 10 प्रतिशत राशि निकासी हुई। नालंदा, मधुबनी, खगड़िया, कैमूर, गया, पूर्वी चंपारण और बक्सर में भी निकासी 50 प्रतिशत से कम है।

प्राथमिक स्कूलों के लिए छात्रवृत्ति मद में निकासी में सबसे फिसड्‌डी पूर्वी चंपारण 7.16 और शिवहर 10.27 प्रतिशत है। 50 प्रतिशत से कम निकासी वाले जिलों में पश्चिम चंपारण, सीतामढ़ी, सासाराम, समस्तीपुर, सहरसा, मुंगेर, मधुबनी, मधेपुरा, किशनगंज, कैमूर, जहानाबाद, जमुई, गोपालगंज, गया और बक्सर शामिल हैं।

माध्यमिक स्कूलों में साइकिल की राशि निकासी अपेक्षाकृति अच्छी है, फिर भी सबसे खराब सुपौल है, जहां मात्र 21 प्रतिशत राशि निकासी हुई है। 50 प्रतिशत से कम राशि निकासी में वैशाली, सासाराम, समस्तीपुर, पटना, गोपालगंज, गया, भोजपुर, भागलपुर व बांका शामिल हैं। पोशाक राशि निकासी में बांका में मात्र 10 और सुपौल में 14 प्रतिशत राशि ही निकासी हुई। 50 प्रतिशत से कम राशि निकासी करने वाले जिलों में वैशाली, सीवान, सासाराम, सारण, समस्तीपुर, सहरसा, पटना, नवादा, लखीसराय, खगड़िया, जहानाबाद, गोपालगंज, गया, पूर्वी चंपारण, दरभंगा, भोजपुर, बांका और औरंगाबाद शामिल है। छात्रवृत्ति व प्रोत्साहन राशि निकासी सुपौल में शून्य है। जबकि गोपालगंज में 3 और गया में 7 प्रतिशत ही निकासी हुई। इस मद में 50 प्रतिशत से कम निकासी वाले जिलों में वैशाली, सासाराम, सारण, समस्तीपुर, नवादा, मुंगेर, मधेपुरा, लखीसराय, किशनगंज, खगड़िया, कैमूर, जहानाबाद, जमुई, गापालगंज, गया, भोजपुर, बोंका, औरंगाबाद और अरवल शामिल हैं।