विज्ञापन

इसकी पुष्टि

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 01:14 PM IST

इसकी पुष्टि

Amount of dress and scholarship not send to students
  • comment

पटना. शिक्षा विभाग की चेतावनी भी स्कूली बच्चों के खाता में पोशाक, छात्रवृत्ति व साइकिल आदि योजना की राशि नहीं दिला सकी। राशि भेजने के लिए दो बार तिथि भी बढ़ायी गई, बावजूद अब तक मात्र 50 प्रतिशत बच्चों के खाता में ही राशि भेजी जा सकी है।

सुपौल में तो मात्र 39 प्रतिशत ही राशि की निकासी हो सकी है। 9 जिलों में तो 75 प्रतिशत राशि की निकासी नहीं हुई है। गुरुवार को सचिव आरएल चोंगथू ने विडियो कांफ्रेंसिंग में राशि निकासी में फिसड्‌डी जिलों के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई। सचिव ने सभी जिलों के डीईओ और डीपीओ (योजना व लेखा) को 28 फरवरी तक निश्चित रूप से बच्चों के खाता में राशि भेजने का निर्देश दिया।

सुपौल के साथ ही सासाराम, किशनगंज, मधुबनी, मधेपुरा, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, नवादा और खगड़िया में 75 प्रतिशत से कम राशि निकासी हुई है। माध्यमिक स्कूलों में तो लगभग 70 प्रतिशत बच्चों को साइकिल योजना की राशि जा चुकी है, लेकिन प्राथमिक और मध्य विद्यालय के लगभग 40 प्रतिशत बच्चों को ही पोशाक और छात्रवृत्ति मद की राशि खाता में जा सकी है।

विडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान जिलों के अधिकारियों ने सचिव को बताया कि राशि बैंक को भेज दी गई है, लेकिन कई दिनों से बैंक से बच्चों के खाता में राशि नहीं जा रही है। दरभंगा में 95 प्रतिशत राशि की निकासी हो चुकी है। 70 प्रतिशत राशि बैंक में है, लेकिन बच्चों के खाता में मात्र 10 प्रतिशत ही राशि भेजी गई है। विभिन्न जिलों के अधिकारियों ने सचिव को बताया कि पंजाब नेशनल बैंक में सॉफ्टवेयर अपडेट किए जाने के जिन बच्चों का इस बैंक में खाता है, राशि नहीं जा रही है। सचिव ने इस मामले पर संबंधित बैंक के उच्चाधिकारियों से बात करने का निर्देश दिया।

पिछले दिनों शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को कड़ी चेतावनी दी थी 15 फरवरी तक बच्चों के खाता में राशि नहीं गई तो जिम्मेदार अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जिला शिक्षा पदाधिकारी के साथ ही जिलों के नोडल अधिकारी और डीपीओ (योजना व लेखा) को जिम्मेदारी तय की गई थी। बावजूद राशि खाता में नहीं जा सकी है।

X
Amount of dress and scholarship not send to students
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें