--Advertisement--

सरकार सरकार

सरकार सरकार

Danik Bhaskar | Mar 06, 2018, 05:30 PM IST

पटना. दिलीप जी तो किसान हैं ही नहीं। इनको क्या मालूम धान और गेहूं की बाली। धान जमीन के ऊपर होता है या नीचे? प्रभारी सहकारिता मंत्री श्रवण ने जब दिलीप चौधरी पर चुटकी ली तो दिलीप चौधरी ने तपाक से कहा- हुजूर, मैं प्योर किसान हूं।

मंत्री व सदस्य के बीच चल रहे शब्दों के तीर के बीच उप सभापति हारुण रसीद ने कहा- दिलीप जी, आप किसान हैं, तो गांव ले जाकर सभी मंत्री और सदस्यों को मछली-भात खिलाइगा, तब न इ लोग बुझेंगे कि आप असली किसान हैं। इसके पहले दिलीप चौधरी ने धान खरीद का मामला उठाया था। बुधवार को विप में कई मौकों पर हंसी के फव्वारे छूटे।

पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार प्रभारी भूमि व राजस्व मंत्री के तौर पर भी जबाव दे रहे थे। इस पर राजद के सुबोध यादव ने पूछा राजस्व विभाग भी इनके पास ही है। उप सभापति ने सुबोध यादव से कहा- विधान परिषद की डायरी आपके पास होगी, उसमें सभी मंत्रियों के विभागों के साथ सूची है। देख लीजिएगा। इस पर सुबोध ने कहा- डायरी नहीं मिली है। उप सभापति ने विप कर्मियों से कहा-सुबोध जी को आज ही डायरी उपलब्ध करा दें।

नगर विकास विभाग से जुड़े सवालों का जब मंत्री सुरेश शर्मा जबाव दे रहे थे, तो सुबोध यादव ने कहा- सरकारी जबाव ही आता है। इस पर उप सभापति ने कहा- सरकार तो सरकारी जबाव ही देगी। सवाल-जबाव के बीच सुबोध यादव ने चुटकी ली- अब तो डबल इंजन है, फिर भी राशि की कमी है। दिलीप चौधरी ने ध्यानाकर्षण में उठाए मुद्दा को गंभीर बताया। इस पर उप सभापति ने तपाक से कहा- दिलीप जी आप उठा रहे हैं तो गंभीर ही न होगा।