--Advertisement--

ठोकर ठोकर

ठोकर ठोकर

Danik Bhaskar | Mar 03, 2018, 11:57 AM IST

पटना। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि लालू प्रसाद या उनकी पार्टी के लोग शहाबुद्दीन और राजबल्लभ यादव के जघन्य आपराधिक कृत्य से पीड़ित परिवारों का हाल पूछने तक कभी नहीं गए। अपराधियों को बचाने का जिनका लंबा इतिहास है, वे हम पर अंगुली क्या उठाएंगे? विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा मुजफ्फरपुर सड़क हादसे में पीड़ितों के घर पर सीएम के नहीं जाने के आरोप के बाद मोदी हमलावर थे।

मोदी ने कहा कि मुजफ्फरपुर के सड़क हादसे में बच्चों की मौत के लिए पहली नजर में दोषी माने गए व्यक्ति को बिना किसी जांच के पार्टी से तुरंत निष्कासित करने के साथ ही प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने मृतकों और घायलों के घर जाकर परिवार को यथासंभव तात्कालिक आर्थिक सहायता दी।

मोदी ने कहा कि राजद शासन में विकास की कोई चिंता नहीं की गई इसलिए राज्य सरकार का बजट 15 साल में 23 हजार करोड़ रुपये के पार नहीं गया, लेकिन एनडीए सरकार ने 2005 से विकास के इतने काम किये कि आज हम नये आत्मविश्वास के साथ 1 लाख 76 हजार 990 करोड़ का बजट सदन के सामने रख रहे हैं। बजट के आकार में 8 गुना वृद्धि हमारी तेज आर्थिक प्रगति का सबसे ठोस प्रमाण है। इस बजट का स्वागत करने के बजाय विपक्ष ध्यान भटकाने के मुद्दे गढ़ रहा है।

मोदी ने कहा कि 2018-19 के बजट में जहां सड़कों के विकास पर 17397.67 करोड़, ऊर्जा पर 10257.66 करोड़ और पर्यटन उद्योग के विकास पर 153.45 करोड़ खर्च करने का प्रावधान कर ढांचागत विकस से रोजगार के अवसर बढ़ाने का निश्चय प्रकट किया गया है, वहीं स्वास्थ्य सेवाओं पर 7793.82 करोड़, शिक्षा पर सर्वाधिक 32125.64 करोड़ और पिछड़े वर्गों के कल्याण पर 1524.51 करोड़ खर्च करने का प्रावधान कर सामाजिक दायित्व पूरा करने का संकल्प किया गया है। बजट का राजकोषीय घाटा एसजीडीपी का मात्र 2.17 फीसद रहने का अनुमान है।