--Advertisement--

अपराधियों

अपराधियों

Danik Bhaskar | Jan 27, 2018, 04:52 AM IST

पटना. राजभवन में राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने पहली बार शहीद सैनिकों की विधवाओं को 25-25 हजार रुपए के साथ प्रशस्तिपत्र दिया। शिक्षा, कला, साहित्य आदि विभिन्न क्षेत्रों के 103 लोगों को राजभवन में राज्यपाल ने सम्मानित किया। राज्यपाल की विशेष पहल पर राजभवन में आयोजित सम्मान समारोह में पद्मश्री सम्मान प्राप्त लोगों के साथ ही हस्तकला, शिल्पकला, खादी निर्माण से जुड़े शिल्पियों, कलाकारों, छात्रों और खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया।

राज्यपाल ने कहा कि राजभवन में गणतंत्र दिवस पर अमर शहीदों की वीरांगना विधवाओं को सम्मानित करने की शुरूआत की गई है। बिहार की ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक विरासत अत्यन्त समृद्ध रही है। भारत का जो स्वर्ण युग रहा है, उसमें बिहार का अनुपम योगदान रहा है। विश्व के प्रथम गणतंत्र वैशाली की अनुपम धरती बिहार की ही भूमि है। स्वतंत्रता-संग्राम में भी बिहार का अनुपम योगदान रहा है। बिहार के अमर शहीदों की वीरांगना विधवाओं को सम्मानित कर तथा बिहार के कलाकारों, शिल्पियों, खिलाड़ियों एवं विद्यार्थियों को प्रोत्साहित कर राजभवन गौरवान्वित हुआ है।

भारतीय वायु सेना, 74 बटालियन सीआरपीएफ, 182 बटालियन सीमा सुरक्षा बल एवं बिहार सैन्य पुलिस के कुल 10 अमर शहीदों की वीरांगना विधवाओं को महामहिम ने अंगवस्त्रम् एवं प्रत्येक को 25 हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान करते हुए सम्मानित किया। कुल 13 पद्मश्री अवार्ड प्राप्त करने वाले एवं राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त करनेवाले कुल 31 शिल्पियों, स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया मेडल प्राप्त कुल 47 होनहार खिलाड़ियों तथा बिहार स्कूल इग्जामिनेशन बोर्ड की परीक्षा-2017 में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को राज्यपाल ने अंगवस्त्रम् देकर सम्मानित किया।