--Advertisement--

इनकार इनकार

इनकार इनकार

Danik Bhaskar | Mar 06, 2018, 05:30 PM IST

पटना. विधायक और विधान पार्षद अब अपने प्रश्नों और समस्याओं को प्रोजेक्टर पर दिखा सकेंगे। सभी सदस्यों की सीट पर लैपटॉप होगा। कोई अधिकारी गोलमोल जबाव नहीं दे सकेगा। विप में उप सभापति हारूण रसीद ने बुधवार को सदस्यों को यह जानकारी देते हुए कहा- जल्द यह व्यवस्था लागू होगी। यह कैसे काम करेगा? इसके लिए ई विधान पर शिमला में प्रजेंटेशन हुआ था।

बिहार में विधान परिषद में इसे लागू कराने की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। वैसे यह व्यवस्था सभी राज्यों के विधानसभा और विधान परिषद में लागू होना है। योजना पर पूरी राशि खर्च केंद्र सरकार देगी। विप उप सभापति ने राजद के सुबोध यादव से कहा- चिंता मत करिए, जल्द यहां ऐसी व्यवस्था लागू हो जाएगी, कि कोई गलत जबाव नहीं देगा। आपके सामने लैपटॉप होगा। दो-तीन प्रोजेक्टर लगे होंगे। कोई अधिकारी गलत जबाव भेजेगा तो आप अपने लैपटॉप से तुरंत प्रोजेक्टर पर दिखा सकते हैं कि सड़क अभी नहीं मरम्मत नहीं हुई है। या फिर कूड़ा का अंबार लगा है।

दरअसल धान खरीद पर प्रभारी सहकारिता मंत्री श्रवण कुमार ने धान खरीद से जुड़े सवाल पर कहा- खरीद में थोड़ी गड़बड़ी हो सकती है, लेकिन शिकायत मिलने पर जांच कर कार्रवाई निश्चित होती है। इस पर राजद के सुबोध यादव ने कहा- मंत्री भी मान रहे गड़बड़ी होती है। सदन में अधिकारी गलत जवाब भेज देते हैं, जिसे मंत्री यहां सदस्यों को बताते हैं।

इस पर उप सभापति ने कहा कि पिछले सत्र में ही बैठक में नगर विकास विभाग के अधिकारियों से कहा गया था कि कूड़ा नहीं उठाने, सड़क पर पानी रहने जैसी समस्या नहीं रहना चाहिए। ऐसी बेहतर व्यवस्था नगर निगम करे कि सदस्यों को इस प्रकार के सवाल उठाने की जरूरत ही नहीं हो। जदयू के रामचंद्र भारती के सवाल पर जब नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि सड़क से कूड़ा नियमित उठाव होता है। इस पर उप सभापति ने मंत्री को हिदायत दी कि अपने स्तर से भी जांच कराएं। अधिकारी गलत जबाव तो नहीं दे रहे हैं? ऐसा है तो संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई करें।