Hindi News »Bihar »Patna» ICAS Jitendra Jha Got Deadbody

रही है।

रही है।

Vivek Kumar | Last Modified - Dec 16, 2017, 11:04 AM IST

पटना.शुक्रवार को ICAS ऑफिसर जीतेंद्र झा का दिल्ली कैंट के पास स्थित रेलवे ट्रैक से शव मिले हैं। 5 दिन पूर्व ये अपने घर से वॉक के लिए निकले थे। इसके बाद से इनका कोई पता नहीं चल रहा था। जीतेंद्र झा 1998 बैच की ऑफिसर थे। दिल्ली स्थित मंत्रालय में वे एचआरडी विभाग में अधिकारी थे। गुरुवार को ही वे गरीबरथ एक्सप्रेस से दिल्ली से अपने गांव सहरसा जाने के लिए निकले थे। लेकिन, पुलिस को उनका शव मिला है। परिवार के लोगों ने भी उनके शव की पहचान कर लिया है। पहले परिजनों ने इंकार कर दिया था...

- रेल पुलिस को जीतेंद्र झा का शव 11 दिसंबर को ही मिल गया था। लेकिन, परिजनों ने उनके शव को पहले पहचानने से इंकार कर दिया था।

- रेल पुलिस ने जब शव की जांच किया तो जीतेंद्र के एटीएम कार्ड और अन्य कागजात मिले।
-इसके बाद शुक्रवार की रात में ये स्पष्ट हो गया कि 11 दिसंबर को रेलवे ट्रैक पर मरने वाला कोई और नहीं जीतेंद्र झा ही था।
-मृतक के पास से मिलने कागजात के बाद परिजनों ने भी शव की पहचान जितेंद्र झा के रुप में कर लिया है।

2 किलो मीटर में बिखरे में मिले शव
-जीतेंद्र झा का शव दिल्ली कैंट के पालम विहार रेलवे ट्रैक से मिले हैं।
-ये शव रेलवे ट्रैक पर 2 किलोमीटर तक बिखरे हुए थे।
-पूरा शरीर कई टुकड़े में कटा हुआ था।
-पुलिस का मानना है कि जितेंद्र झा ने या तो चलती ट्रेन से छलांग लगा दिया है या फिर उन्हें चलती ट्रेन से धक्का दे दिया गया है।

बच्चों को स्कूल छोड़ कर आए फिर निकले तो वापस नहीं लौटे
- जितेंद्र के करीबी मित्र रहे रमण कुमार झा ने बताया कि जितेंद्र की पत्नी भावना से जो जानकारी मिली है।
- उसके मुताबिक वह मॉर्निंग वॉक से लौटने के बाद रोजाना की तरह अपने बच्चों को स्कूल छोड़ने गये।
- वापस लौटने के बाद कुछ समय घर पर गुजारा और फिर तैयार होकर बाहर निकल गये।

गृह मंत्रालय को छोड़कर किसी भी विभाग में भी लंबा वक्त नहीं गुजार पाए जितेंद्र
- वर्ष 1998 में इंडियन सिविल एकाउंट्स सर्विसेज में आये जितेंद्र कुमार झा केंद्रीय गृह मंत्रालय को छोड़ कर कहीं भी लंबा वक्त नहीं गुजार पाये।
- उनका गृह मंत्रालय में करीब तीन साल का कार्यकाल रहा।
-अधिकतर पदस्थापन के पश्चात उनका कार्यकाल चार माह से एक साल के बीच का ही रहा है।
- उनकी पहली पोस्टिंग कपड़ा मंत्रालय में हुई थी।

अभी दिल्ली में ही जुटा है पूरा परिवार
- तीन भाइयों में जितेंद्र मंझले हैं। बड़े भाई अमरेंद्र झा फिलहाल कस्टम विभाग में मुंबई में असिस्टेंट कस्टम ऑफिसर हैं।
- छोटा भाई राजेंद्र कुमार झा दिल्ली एनसीआर में ही एक निजी कंपनी में हैं

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ICAS jeetendr jhaa ka hi niklaa relovee traik par milaa dedbodi, 2KM mein vikhre the shv
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×