--Advertisement--

अभय अभय

अभय अभय

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 10:30 AM IST

पटना. किसानों को हर हाल में लागत मूल्य का डेढ़ गुना मूल्य मिलेगा। इसके लिए विभिन्न स्तरों पर काम हो रहे हैं। नीति आयोग में इस मामले पर बैठक में राज्य के अधिकारी गए हैं। किसी भी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) तय करने के पहले लागत मूल्य पर भी विमर्श होना है। कैसे किसानों को मूल्य दिलाया जाएगा, इस पर नीति तय होगी।

राज्य में 9 नवंबर 2017 को तीसरा कृषि रोड मैप लागू हो गई है। रोड मैप से फसल उत्पादन के साथ दूध, फल, सब्जी, मांस और मछली उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रयास हो रहे हैं। रोड मैप की योजनाओं को जमीनी स्तर पर लागू कराने के लिए खुद मुख्यमंत्री मॉनीटरिंग कर रहे हैं। शुक्रवार को वे गांधी मैदान में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय एग्रीटेक मेला सह प्रदर्शनी का उद्घाटन कर रहे थे।

प्रधान सचिव सुधीर कुमार ने कहा कि समेकित खेती से ही किसानों की आय बढ़ेगी। जब सामान्य फसल के साथ ही दूध और मछली उत्पादन नहीं करेंगे, तब कैसे 2022 तक आमदनी किसानों की दोगुनी होगी? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सोच थी राज्य में कृषि रोड मैप के माध्यम से कृषि से जुड़े सभी सेक्टर का विकास हो। इसका नतीजा भी सामने है, पहले जहां काफी कम उत्पादन होता था, वहीं पिछले साल रिकार्ड 185 लाख टन अनाज का उत्पादन हुआ।

तीसरा कृषि रोड मैप में जैविक खेती के गंगा के किनारे जिलों के गांव और पटना नालंदा उच्च पथ के किनारे के गांव में जैविक खेती की योजना शुरू की गई है। जैविक खेती से किसानों को अधिक लाभ मिलेगा। मेला में किसान इजराइल, जापान, नीदरलैंड और अमेरिका की कंपनी के स्टॉल पर वहां की उन्नत खेती की जानकारी ले सकेंगे। इजराइल में कम पानी में अधिक उत्पादन तकनीक विकसित किया गया है। मानसून की अनियमितता के कारण हमें भी इस प्रकार की तकनीक लागू करनी होगी। उन्होंने कहा कि मक्का फसल में दाना नहीं लगने के मामले की जांच हो रही है। किसानों को आपदा प्रबंधन के मापदंड के अनुसार क्षतिपूर्ति दिलाया जाएगा।

कार्यक्रम को उद्यान निदेशक अरविंदर सिंह, मखाना उद्यमी व पीएचडीसीसीआई के अधिकारी सत्यजीत सिंह, एपिडा के सहायक प्रबंधक सीपी सिंह, प्रगतिशील किसान अजय कुमार ने भी संबोधित किया। स्वागत बामेती निदेशक गणेश राम और धन्यवाद ज्ञापन संयुक्त निदेशक अशोक प्रसाद ने किया। मौके पर कृषि निदेशक हिमांशु कुमार राय, विशेष सचिव रवींद्र नाथ राय, मत्स्य निदेशक निशात अहमद, गव्य निदेशक अजय कुमार झा धनंजयपति त्रिपाठी, एसी जैन, एसएन मल्लिक, ओमप्रकाश, डॉ. अजय कुमार, नरेंद्र मोहन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।