Hindi News »Bihar »Patna» Indian Oil Supplied Over 76 Petrol Pumps Affecting More Than 30 No Oil

जिससे

जिससे

Vivek Kumar | Last Modified - Dec 04, 2017, 02:02 PM IST

पटना. इंडियन ऑयल के 76 पेट्रोल पंपों पर सोमवार को सप्लाई प्रभावित प्रभावित रही। इनमें से करीब 30 स्टेशन पर पूरे दिन ‘नो ऑयल’ का बोर्ड टंगा रहा। नाला रोड दिनकर चौराहा स्थित पेट्रोल पंप के बाहर पूरे दिन पेट्रोल की कालाबाजारी हुई और 100 रूपये लीटर तक बिका। बताते चलें कि ट्रांसपोर्टर्स की हड़ताल के कारण तेल आईओसी स्टेशन के बाहर नहीं आ पा रहा है। पेट्रोल पंप मैनेजर से लेकर आईओसी अधिकारी तक यह बताने में असमर्थ रहे कि तेल कब तक आयेगा।

इधर सिपारा स्थित इंडियन ऑयल स्टेशन पर ऑयल ट्रांसपोर्टर्स धरना-प्रदर्शन का धरना जारी रहा। ट्रांसपोर्टर्स का आरोप है कि आईओसी ने उनका पारिश्रमिक घटा दिया है जो कहीं से तर्कसंगत नहीं है। वे चाहते हैं कि कम से कम लंबे समये से चल रहा तेल ट्रांसपोर्टेशन रेट 2.52 रूपया/केएल/किमी बना रहे। केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के रविवार को इस विषय पर ज्ञापन भी दिया है और उनसे दखल की मांग की है।

कौन हैं ट्रांसपोर्टर-

आईओसी के ट्रांसपोर्ट बिजनेस से जुड़े केसरी कुमार और उपेन्द्र कुमार बताते हैं कि वे कोई थर्ड पार्टी वेंडर जैसे नहीं है। चुंकि सिपारा आईओसी स्टेशन की जमीन उनकी पुश्तैनी जमीन है और इसी आधार पर उन्हे रोजगार मुहैया कराया गया था। सिपारा, दशरथा, पकड़ी, भूपतिपूर समेत 6 गांवे के लोगों की जमीन पर आईओसी बेस बसाया गया था। कई लोगों के 5-6 बीघे जमीनें ली गईं थी।

ट्रांसपोर्टर्स आरोप लगाते हैं कि दुनिया में हर जगह बढ़ती महंगाई के अनुसार पारिश्रमिक बढ़ता है, परंतु आईओसी की नीति ऐसी है मानो वे हमारी आजीविका की छीनने पर पड़े हैं। हड़ताल के कारण 140 ट्रक खडे़ हैं। एक छोटे ट्रक(6 चक्का) में 12 हजार लीटर तेल आता है।

बड़े ट्रक(10 चक्का) में 18-20 हजार लीटर तेल आता है। शुक्रवार को आईओसी ने प्रशासनिक बंदोबस्ती में जबरन 7 ट्रक तेल निकाला था। जबकि शनिवार को 5 ट्रक निकाला। रविवार को तेल बाहर नहीं आ सका। इसका सीधा असर सोमवार को पटना के आईओसी पंपों पर देखने को मिला।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×