--Advertisement--

आरोप

आरोप

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 10:47 AM IST

पटना. मनी लॉन्ड्रिंग केस में आज दिल्ली के पटियाला कोर्ट में सुनवाई हुई। आरजेडी प्रमुख लालू यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती और दामाद शैलेश कुमार कोर्ट में पेश हुए। कोर्ट से उन्हें 2-2 लाख रुपए के मुचलके पर बेल मिला है। आगे इस मामले में कोर्ट में ट्रायल चलेगा। मीसा और शैलेश पर आरोप है कि उन्होंने हवाला के जरिए दिल्ली में फॉर्म हाउस खरीदा। मामले की जांच कर रही ईडी ने कोर्ट में चार्जशीट पेश की थी। इसके बाद कोर्ट ने मीसा और शैलेश को कोर्ट में पेश होने का समन दिया था।

मीसा ने पति शैलेश पर फोड़ा ठीकरा
गौरतलब है कि सांसद मीसा भारती ने रविवार को मनी लॉन्ड्रिंग की जांच का सामना कर रही कंपनी को चलाने का ठीकरा पति और सीए (अब स्वर्गीय) पर फोड़ा था।
ईडी का आरोप है कि मीसा और उनके पति शैलेश कुमार दोनों ने मुखौटा कंपनियों के जरिये 1.2 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग की साजिश की।
यह मामला मीसा भारती और उनके पति के दिल्ली में फार्म हाउस खरीद से जुड़ा है। उनकी कंपनी मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम से मनी लॉन्ड्रिंग के 1.2 करोड़ रुपए से 2008-09 में इसे खरीदा गया था।
ईडी ने इस मामले में मीसा से पूछताछ की थी। ईडी ने 25 फरवरी को इस मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए मीसा और शैलेश का बिजवासन, पालम (दिल्ली) स्थित फॉर्म हाउस को अटैच कर दिया था।
आरोप है कि मीसा और शैलेष ने अन्य आरोपी राजेश कुमार अग्रवाल के साथ साठगांठ कर मुखौटा कंपनियों के जरिए 1.2 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग की। ये मुखौटा कंपनियां कथित हवाला कारोबारी जैन बंधुओं और संतोष कुमार शाह की हैं।