--Advertisement--

डेब्यू

डेब्यू

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 04:07 PM IST

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोलते रहे और बिजली कटती रही। एक नहीं, दो नहीं लगातार पांच-पांच बार गुल हुई बत्ती। अधिकारी परेशान दिखे। बिजली ऑपरेटर भागते रहे। बिहार कृषि वानिकी नीति बनाने के लिए ज्ञान भवन के अशोक कन्वेंशन हॉल में आयोजित समागम में सीएम जब बोल रहे थे, तब तीन मिनट बाद ही पहली बार बत्ती कटी। फिर एक मिनट बाद फिर कट गई। स्क्रीन ऑफ हो गया। हॉल में अंघेरा छा गया। मुख्यमंत्री के सुरक्षा कर्मी चौकन्ने हो गए।

दूसरी बार जब बिजली कटी तो पर्यावरण व वन विभाग के प्रधान सचिव त्रिपुरारी शरण अपनी कुर्सी से उठे और दूसरे अधिकारियों को बिजली व्यवस्था ठीक रखने के लिए कहा। अन्य अधिकारी भी तेजी से मंच के पीछे गए। इसके बाद मंच के पीछे से आकर प्रधान सचिव अपनी कुर्सी पर बैठे ही थे कि तीसरी बार फिर बिजली कट गई।

भागते हुए दो बिजली कर्मी मंच के नीचे आए। इस प्रकार चौथी बार भी बिजली गुल हो गई। थोड़ी ही देर में पांचवीं बार भी बिजली कट गई। बिजली आती-जाती रही। बिजली कटने से हॉल में अंधेरा छा जाता था, लेकिन इस दौरान माइक का कनेक्शन नहीं कटा था। सीएम की आवाज हॉल में बैठे लोगों तक साफ सुनाई दे रही थी। मंच पर बैठे लोग भी लगातार बिजली कटने से परेशान दिखे।