Hindi News »Bihar »Patna» Martyr Jyoti Kumar Nirala Got Ashoka Chakra Award

शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था

सम्मान मिलने के बाद ज्योति की छोटी बहन बिंदू कुमारी ने कहा कि भाई तो मेरा एक ही था, लेकिन वह सौ भाइयों के बराबर था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 26, 2018, 04:30 PM IST

  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    अशोक चक्र सम्मान मिलने के बाद ज्योति की बहन ने कहा कि भाई तो एक था,लेकिन वह सौ के बराबर था।

    पटना.बिहार के रोहतास जिले के शहीद एयरफोर्स कमांडो कॉर्पोरल ज्योति प्रकाश निराला को शुक्रवार को मरणोपरांत अशोक चक्र सम्मान मिला। सम्मान मिलने के बाद ज्योति की छोटी बहन बिंदू कुमारी ने कहा कि भाई तो मेरा एक ही था, लेकिन वह सौ भाइयों के बराबर था। आज यह सम्मान मिलने के बाद भाई ने मुझे खुश रहने के लिए मजबूर कर दिया है। ज्योति की पत्नी और मां ने लिया सम्मान...

    तीनों बहने गांव में टीवी पर ही लाइव कार्यक्रम देख रही थी। मां और भाभी को सम्मान लेते देख तीन बहनें अपने आंसू को रोक नहीं पाई। तीनों ने कहा कि भइया हमेशा फौज में ही जाने की बात करते थे। कहते थे कि जीवन में कुछ भी करो,लेकिन वह सबसे अलग होना चाहिए। आज यह भाई ने साबित कर दिया है। अशोक चक्र सम्मान मिलने के बाद घर में थोड़ा खुशी का माहौल है।

    ज्योति की मां और भाभी को देख भावुक हुए कोविंद
    गणतंत्र दिवस के मौके पर जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यह सम्मान ज्योति के मां और पत्नी सुषमा को दिया तो वह भावुक हो गए। ज्योति प्रकाश 18 नवंबर 2017 को लश्कर-ए-तैयबा आतंकियों के खिलाफ एक ऑपरेशन के दौरान 6 आतंकियों को मार गिराया था। जिसके बाद वह शहीद हो गए थे।

    2010 में हुई थी शादी

    रोहतास जिले के काराकाट के बदलाडीह गांव के ज्योति ने साल 2005 में इंडियन एयर फोर्स ज्वाइन किया था। पांच साल के बाद साल 2010 में उनकी शादी सुषमा से हुई थी। ज्योति की चार साल की एक बेटी है। बिंदू कुमारी, शशी कुमारी और सुनीता कुमारी की शादी की जिम्मेवारी भी ज्योति पर थी। लेकिन उससे पहले ही शहीद हो गए। ज्योति के पिता तेज नारायण सिंह किसान हैं। वह गांव पर ही रहते हैं। ज्योति शदीद होने से 20 दिन पहले अपने गांव से ड्यूटी के लिए गए थे। इस दौरान वे पिता से वादा करके गए थे कि इस बार लौटने पर बहनों की शादी की जाएगी।

    गांव में लगे थे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

    ज्योति के शहीद होने के बाद पार्थिव शरीर जब उनके गांव पहुंचा था तो देखते ही भीड़ ज्योति अमर रहे, पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारा लगाने लगी। ज्योति का अंतिम संस्कार पैतृक गांव में ही किया गया था। ज्योति के पिता ने मुखाग्नि दी थी।

  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    शहीद ज्योति कुमार निराला की चार साल की एक बेटी है।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    टीवी पर मां और भाभी को सम्मान लेते देखती तीनों बहने।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    सम्मान देते समय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भावुक हो गए।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    ज्योति बिहार के रोहतास जिले के बदलाडीह गांव के रहने वाले थे।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    ज्योति की शादी सुषमा के साथ 2010 में हुई थी।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    ज्योति कुमार निराला का पैतृक गांव।
  • शहीद ज्योति कुमार निराला की बहन बोली-भाई तो था एक, लेकिन 100 के बराबर था
    +7और स्लाइड देखें
    तीन बहनों की शादी की जिम्मेवारी भी ज्योति पर थी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Martyr Jyoti Kumar Nirala Got Ashoka Chakra Award
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×