--Advertisement--

मार्च में

मार्च में

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 06:39 PM IST

पटना. राष्ट्रवादी जन कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंभुनाथ सिन्हा ने कहा कि आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए। जाति नहीं गरीबी के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए। 70 वर्षों से आरक्षण के नाम पर सक्षम और करोड़पतियों ने ही लाभ लिया। आज भाजपा सहित कुछ राजनीतिक दल आरक्षण का मुद्दा उठाने लगे हैं।


राज्य मे बालू संकट दूर करने के लिए तत्काल सकरार को न्यायालय के निर्देशानुसार पहल करनी चाहिए। बालू नहीं मिलने से निर्माण कार्य ठप है। गरीबों का रोजगार भी छिन गया है। रविवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी गठन के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता डॉ. भीम राव अंबेडकर सहित अन्य सदस्यों ने 10 वर्षों में आरक्षण की समीक्षा करने की बात कहीं थी। बावजूद 40 वर्षों से न पालन हो रहा न ही समीक्षा हो रही। आज आरक्षण का लाभ कमजोर और गरीबों को नहीं मिल रहा है।


राजकां का 24 सदस्यीय कार्यसमिति बनी। इसमें 7 कार्यकारिणी सदस्य है। 17 राष्ट्रीय पदाधिकारी है। एक प्रधान महासचिव, 3 उपाध्यक्ष व एक कोषाध्यक्ष बनाए गए हैं। राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों में रामदुलारी सिन्हा, सुधीर कुमार सिंह, विपिन कुमार, सुभाषिनी द्विवेदी, रंजन कुमार मिश्रा, अमरेंद्र कुमार व आशीष कुमार मिश्रा शामिल हैं।

उपाध्यक्षों में रविनंदन सहाय, सतीश कुमार शर्मा व रत्नेश कृष्ण द्विवेदी। कोषाध्यक्ष अनिल कुमार नाग बने। महासचिव में सुदामा पांडेय, डॉ. संजय कुमार, रवि गोस्वामी, सैयद मुख्यतार हुसैन, आशुतोष कुमार, विकास त्यागी व सतीश राज चंद्रवंशी शामिल हैं। सचिव में दिलीप पासवान, प्रमोद नारायण, संदीप कुमार आस व धीरज कुमार शामिल हैं।