Hindi News »Bihar News »Patna News» Parties And Progressive Muslims Should Support Potential Bills On Three Divorce Political

तीन तलाक पर संभावित बिल को समर्थन दें राजनीतिक दल व प्रगतिशील मुस्लिम: मोदी

Alok Chandra | Last Modified - Dec 13, 2017, 06:13 PM IST

सामाजिक सुधार की कार्रवाई का कुछ लोग विरोध करते हैं, सती प्रथा के उन्मूलन का भी कुछ लोगों ने विरोध किया था।
तीन तलाक पर संभावित बिल को समर्थन दें राजनीतिक दल व प्रगतिशील मुस्लिम: मोदी

पटना. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने तीन तलाक और तलाकशुदा महिलाओं के भरण पोषण के लिए आने वाले संभावित बिल का राजनीतिक दलों व मुस्लिम समाज के प्रगतिशील लोगों से समर्थन की अपील की है।

वे बुधवार को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने कहा कि पिछले 22 अगस्त को एक साथ तीन तलाक को सुप्रीम कोर्ट द्वारा अवैध करार दिए जाने के बाद संसद के आगामी सत्र में केंद्र की ओर से तीन तलाक और तलाकशुदा महिलाओं के भरण पोषण के लिए बिल आ सकता है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 31 साल पहले 1986 में सुप्रीम कोर्ट ने शहबानो मामले में गुजारा भत्ता का निर्णय दिया था मगर तत्कालीन राजीव गांधी की सरकार ने कानून में संशोधन कर मुस्लिम तलाकशुदा महिलाओं को उससे वंचित कर दिया था। केंद्र और राज्य की सरकारें किसी भी धर्म के अंदरूनी मामले, रीति-रिवाज आदि में कोई हस्तक्षेप और धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करती है।

महिलाओं, बच्चों के साथ होने वाले भेदभाव, तीन तलाक, दहेज प्रथा, बाल विवाह, छुआछूत जैसी सामाजिक बुराइयों को रोकने की पहल सरकारें जरूर करेगी। सामाजिक सुधार की कार्रवाई का कुछ लोग विरोध करते हैं, सती प्रथा के उन्मूलन का भी कुछ लोगों ने विरोध किया था। तीन तलाक जैसी कुप्रथा का धर्म से कोई संबंध नहीं है, बल्कि यह महिलाओं के साथ अन्याय है।

बिहार में जब 2005 में एनडीए की सरकार बनी तो मुस्लिम तलाकशुदा महिलाओं को भरण पोषण के लिए प्रति महीने 10 हजार रुपए देने का निर्णय लिया गया, जिसे अब बढ़ा कर 25 हजार रुपए करने का सरकार ने निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक विद्यार्थी प्रोत्साहन योजनान्तर्गत सरकारी स्कूलों की भांति मदरसों से 10 वीं व 12 वीं की परीक्षा अच्छे अंकों में उत्तीर्ण करने वालों को भी छात्रवृत्ति दी जायेगी।

मान्यता प्राप्त मदरसों में कक्ष, पेयजल, शौचालय, पुस्तकालय, कम्प्यूटर आदि के लिए राज्य सरकार सहायता देगी। वक्फ की भूमि का सर्वे करा कर सरकार उसे अतिक्रमण मुक्त करायेगी और वहां वक्फ कमिटी का कार्यालय, सार्वजनिक पुस्तकालय व बहुउद्देश्यीय भवन आदि का निर्माण कराया जायेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: teen talaq par snbhaavit bil ko smrthn den raajnitik dl v prgatishil muslim: modi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Patna

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×