--Advertisement--

देता देता देता देता देता

देता देता देता देता देता

Danik Bhaskar | Feb 12, 2018, 09:57 AM IST

छपरा. छपरा सदर अस्पताल में एक बड़ी लापरवाही फिर से उजागर हुई है। इस लापरवाही के कारण एक जिंदा मरीज को दो मुर्दों के साथ बंद कमरे में रात गुजारनी पड़ी। यह मरीज लावारिस हालत में भर्ती कराया गया था। जिसे अस्पताल कर्मियों ने इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया था। दो शव को मरीज के वार्ड में रखा...

इस बीच बीती रात सड़क हादसे में मुजफ्फरपुर के बैंक कर्मी अजय सिंह और उनके पुत्र आरव की मौत हो गई। दोनों शव को लाकर उसी कमरे में रख दिया गया। जिस कमरे में वह लावारिस मरीज सोया हुआ था। शव के दुर्गंध परेशान रहा। मरीज रात भर उसी वार्ड में सोया रहा जिस वार्ड में दो लाशें भी रखी हुई थी। सुबह जब मामले की कर्मियों को हुई तो डॉक्टरों को जानकारी दी गई। जिसके बाद ऑन ड्यूटी डॉक्टर सुभाष तिवारी ने अस्पताल कर्मियों को मरीज को अलग वार्ड में शिफ्ट करने का निर्देश दिया।