Hindi News »Bihar »Patna» Political Parties Joining Human Queue For Education Reform

शिक्षा सुधार के लिए बन रही मानव कतार में शामिल हो सभी राजनीतिक पार्टियां: उपेंद्र

30 जनवरी को शिक्षा सुधार मानव कतार में जदयू सहित सभी राजनीतिक पार्टियों को शामिल होना चाहिए।

Pankaj Kumar Singh | Last Modified - Jan 28, 2018, 04:27 PM IST

पटना. रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि 21 जनवरी को बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ मानव श्रृंखला में हम शामिल हुए, अब 30 जनवरी को शिक्षा सुधार मानव कतार में जदयू सहित सभी राजनीतिक पार्टियों को शामिल होना चाहिए। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मान रहे हैं कि शिक्षा में पिछड़ गए हैं। ऐसे में शिक्षा में सुधार की जरूरत है। राज्य भर में 7280 स्कूलों के बाहर शिक्षा सुधार मानव कतार बनेगा। रविवार को वे पत्रकारों से बात कर रहे थे।

भाजपा और जदयू सहित एनडीए के घटक दलों द्वारा शिक्षा सुधार मानव कतार का अब तक क्यों नहीं समर्थन किया है? इस सवाल पर कहा- इसका जवाब तो भाजपा और अन्य दल ही सकता है। हमने पत्र लिख कर शामिल होने का आग्रह तो नहीं किया है, लेकिन मीडिया के माध्यम से उन्हें शिक्षा सुधार मानव कतार में शामिल होने का न्योता जरूर दिया है।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने आपको (रालोसपा) राजद-कांग्रेस के साथ आने का न्योता दिया है? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी हम शिक्षा सुधार मानव कतार की सफलता के लिए केंद्रित हैं। शिक्षा में सुधार की जरूरत है। इसलिए गांवों और शहरों में आम लोगों का जबर्दस्त समर्थन रालोसपा को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक पंचायत के कम से कम एक स्कूल के बाहर 30 जनवरी को 11.30 से 12 बजे तक मानव कतार लगाया जाएगा। इसमें बच्चों के अभिभावकों और आम लोगों के साथ पार्टी के नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: shiksaa sudhaar ke liye ban rhi maanv ktaar mein shaamil ho sbhi raajnitik paartiyaan: upendr
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×