Hindi News »Bihar »Patna» Production Of Fruits And Horticultural Crops In The Country In Last Four Years

आंचलिक

आंचलिक

Vivek Kumar | Last Modified - Dec 17, 2017, 06:37 PM IST

पटना.केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि पिछले 4 वर्षों में देश में फलों और बागवानी फसलों का उत्पादन बढ़ा है। 2015-16 में 63 लाख हेक्टेयर में 9 करोड़ टन से अधिक फलों का उत्पादन हुआ था। 2016-17 में लगभग 2.5 करोड़ हेक्टेयर भूमि से बागवानी फसलों को उत्पादन लगभग 30 करोड़ टन होने का अनुमान है। इसमें फलों का महत्वपूर्ण योगदान है।

उन्होंने कहा कि पोषण सुरक्षा सुनिश्चित करने, रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने एवं पर्यावरण को शुद्ध करने में फलों एवं बगीचे महत्वपूर्ण हैं। इसे बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर एकीकृत बागवानी मिशन परियोजना चलायी जा रही है।

बागवानी फसलों पर अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं का बड़ा उत्साहजनक परिणाम रहा है। लगातार चार वर्षों से प्रतिकूल जलवायु की दशाओं में भी बागवानी फसलों का उत्पादन खाद्य फसलों से अधिक रहा है। चीन के बाद अपने भारत देश का बागवानी फसलों तथा फलों के सकल उत्पादन में द्वितीय स्थान है।

1985 में ही नागपुर में नीबू वर्गीय फल फसल अनुसंधान केंद्र की स्थापना की थी जिसे सन 1986 में राष्ट्रीय नीबू वर्गीय फल फसल अनुसंधान केंद्र के रूप में समुन्नत कर दिया गया। उन्होंने बताया कि वर्तमान केंद्र सरकार ने इस केंद्र को सन 2014 में केंद्रीय संस्थान के रूप में समुन्नत कर दिया है। देश के पूर्वोत्तर राज्यों में नीबू वर्गीय फलों पर अनुसंधान एवं विकास में आवश्यक तीव्रता लाने के लिए असम के विश्वनाथ चारियाली जिले में इस वर्ष मार्च में 42.4 एकड़ भूभाग पर इसी संस्थान का आंचलिक केंद्र स्थापित किया गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×