--Advertisement--

हंगामा हंगामा

हंगामा हंगामा

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 05:06 PM IST
एनडीए के उम्मीदवार प्रदीप कुम एनडीए के उम्मीदवार प्रदीप कुम

अररिया. अररिया लोकसभा सीट पर उपचुनाव में एनडीए के उम्मीदवार प्रदीप कुमार अपने विरोधी राजद उम्मीदवार को घेरने की बजाए खुद ही कई मोर्चे पर एक साथ घिर गए। नतीजा उनको सरफराज आलम के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

एक तरफ उपचुनाव के दौरान जीतन राम मांझी एनडीए से अलग होकर महादलित वोटरों को राजद में लेकर चले गए। अररिया में मुसलमानों के बाद महादलित वोटरों की बड़ी संख्या हैं। अररिया में महादलितों को भाजपा का परंपरागत वोटर माना जाता है, लेकिन मांझी के प्रभाव में महादलितों ने भाजपा से किनारा कर लिया। बिहार में वहीं मुसलमानों ने भी नीतीश कुमार के राजद से नाता तोड़ने पर खुल कर नाराजगी जताई और अग्रेसिव वोटिंग करके प्रदीप की किस्मत पर ताला बंद कर दिया।

प्रदीप को एनडीए के विधायक विजय मंडल की ओर से भी चुनौती का सामना करना पड़ा जो शायद वहां से किसी दूसरे उम्मीदवार को टिकट चाहते थे। लोकसभा के पिछले चुनाव में मो.तसलीमुद्दीन ने 4.01 लाख वोट हासिल किए थे। वहीं, प्रदीप को 2.61 लाख जबकि विजय मंडल को 2.01 लाख वोट आए थे। विजय ने इस बार प्रदीप के लिए भितरघात किया। इसके अलावा सरफराज को पिता की मौत के बाद सहानुभूति वोटों का भी लाभ मिल गया।