Hindi News »Bihar »Patna» Senate Meeting Budget Passes Loss Of 304.09 Crores In PU

मिलने के

मिलने के

Rajesh Ojha | Last Modified - Dec 21, 2017, 05:34 PM IST

पटना. पटना यूनिवर्सिटी सीनेट की बैठक शुक्रवार को आयोजित की गई। इस बैठक में विश्वविद्यालय के सत्र 2018-19 का प्रस्तावित बजट पास किया गया। प्रतिकुलपति डॉ. डॉली सिन्हा ने बजट पढ़ा, इसपर सभी सदस्यों ने सहमति दी। सत्र 2018-19 में विश्वविद्यालय का कुल प्रस्तावित बजट 335.30 करोड़ रुपए का है। इनमें से 31.21 करोड़ रुपए ही विश्वविद्यालय की कुल आय है।

बैठक में 304.09करोड़ रुपए के घाटे का बजट पास किया गया। सत्र 2017-18 में विश्वविद्यालय में कुल 311.06 करोड़ रुपए के घाटे का बजट पेश किया था। पिछले सत्र में विवि का कुल बजट 342.08 करोड़ रुपए था। पहली बार बिना किसी हंगामे के साथ बजट पास किया गया। बैठक में सदस्यों ने कुलपति से कई सवाल भी पूछे। इससे पहले कुलपति ने बैठक की कार्रवाई शुरू करते हुए रिपोर्ट पेश की। उन्होंने कहा कि इस विवि का छात्र और शिक्षक रह चुका हूं, पिछले 50 सालों से विश्वविद्यालय के विभिन्न स्वरूपों को देखा है।

विवि की गरिमा को लेकर जाहिर की चिंता
कुलपति ने सदन में इस बात को लेकर चिंता जाहिर की कि एक वक्त में विवि को पूरब का ऑक्सफोर्ड कहा जाता था लेकिन अभी विवि की तेज और पहचान में वह धार नहीं है। उन्होंने सभी सदस्यों से अपील की कि शताब्दी वर्ष में विवि की गरिमा वापस लाने की दिशा में ईमानदारी से प्रयास करें।

बैठक में उन सभी सहयोगियों को श्रद्धांजलि दी गई जो पिछले दिनों असमय चले गए। इनमें पटना विवि के भौतिकी विभागाध्यक्ष डॉ. रोहित रमण, सीनेट में कर्मचारी प्रतिनिधि रघुराम शर्मा समेत विवि व कॉलेजों के अन्य कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी गई। सेवानिवृत्ति के बाद भी देहांत हुए शिक्षक व कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: sinet baithk- piyu mein 304.09 karode rupaye ke ghaate ka bjt pass
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×