--Advertisement--

रही है।

रही है।

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 04:05 PM IST

पटना। विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर तीखा हमला किया है। तेजस्वी ने मंगलवार को माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा कि किसी एक स्वयंसेवक का नाम बताएं जो सीमा पर शहीद हुआ हो या उसके परिवार से कोई शहीद हुआ हो। सेना का अपमान करना बंद करो। संघियों का देश को आज़ाद कराने में नहीं, ग़ुलाम रखने में योगदान था।

तेजस्वी ने आगे लिखा कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत सीमा पर मोर्चा संभालने के लिए संघ के पास तीन दिन में सेना तैयार करने की क्षमता की बात करते हैं, अगर उनमें हिम्मत है तो स्वयंसेवकों को डोकलाम भेज दें। क्यों बिल में छिप कर बैठे हैं? चीनी हमारे देश में घुसे हुए हैं। पाकिस्तानी प्रतिदिन हमला करते है। सेना और सैनिकों का अपमान करना बंद करो।

उन्होंने कहा कि कुछ दिन इंतजार करें, नीतीश कुमार गठबंधन के मुख्यमंत्री भी नहीं रहेंगे। फल मिलेगा। संघमुक्त भारत की बात करने वाला अब संघयुक्त भारत का वक़ील बन रहा है। इनका कोई स्टैंड है क्या? मैं शुरू से ही कह रहा हूं कि तेजस्वी तो केवल बहाना था। 'पलटू चाचा' के दिमाग में पहले से ही जहर था। नीतीश ने अपनी कुर्सी का कुकर्म छुपाने के लिए 28 साल के नौजवान का बहाना बनाया।