• Home
  • Bihar
  • Patna
  • Woman face a lot of difficulties after doctor say she is HIV positive
--Advertisement--

गंगा गंगा

गंगा गंगा

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 06:52 PM IST

हाजीपुर. बिहार के वैशाली जिले के सरकारी अस्पताल महुआ के डॉक्टरों ने 40 वर्षीय महिला को एचआईवी पॉजिटिव बताकर उसका जीवन नर्क बना दिया। ससुराल वालों ने उसे घर से निकाल दिया तो बदनामी के डर से मायके वालों ने भी मुंह मोड़ लिया। आत्महत्या के लिए जा रही इस महिला की ननद ने मदद की। ननद ने समझदारी दिखाते हुए भाभी की दो बार जांच कराई और दोनों ही बार की रिपोर्ट में उसे ऐसी कोई बीमारी नहीं पाई गई। इस प्रकार एक महिला की सूझबूझ से दूसरी महिला की जिंदगी तबाह होने से बच गई।

अपनी जिंदगी खत्म करने पर उतारू हो गई थी महिला
सरकारी डॉक्टरों द्वारा मौत के मुंह में ढकेली गई यह महिला 27 फरवरी को महुआ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में परिवार नियोजन का ऑपरेशन करवाने गई थी। ऑपरेशन से पहले खून की गलत रिपोर्ट देकर पीएचसी के सरकारी जांच घर ने उसे एचआईवी पॉजिटिव बताया और हाजीपुर रेफर कर दिया।

पति ने घर से निकाला
महिला पातेपुर के चपुता स्थित ससुराल गई तो पति ने उसे घर से निकाल दिया। महिला 4 बच्चों की मां है। सबसे बड़ा लड़का 11 साल का है और सबसे छोटा 17 माह का। 17 माह के बेटे को भी यह कह कर महिला को सौंप दिया गया कि उसे भी HIV होगा। मायके वालों ने भी उससे मुंह मोड़ लिया। इसके बाद महिला ने आत्महत्या की ठान ली, लेकिन वह अपने 17 माह के बच्चे को बचाना चाहती थी। इसलिए ननद जंदाहा के धंधुआ निवासी नथुनी साहनी की पत्नी अनीता सहनी के पास गई।

ननद ने भाभी को समझाया और उसे 28 फरवरी को दोबारा जांच के लिए सदर अस्पताल लेकर आई। होली की छुट्टियों की वजह से मंगलवार को जांच रिपोर्ट मिली, जिसमें उसे एचआईवी निगेटिव बताया गया। अनीता ने फिर से शहर के ही सबसे बड़े मगध जांच घर में जांच कराई। इसकी रिपोर्ट भी निगेटिव ही थी। इसके बाद तो महिला की खुशी का ठिकाना न था।

सीएस की अजीब दलील: तीन जांच होती है, पहली में ऐसा रिजल्ट संभव है
वैशाली के सिविल सर्जन डॉ. इंद्र देव रंजन ने बताया कि एचआईवी के लिए तीन तरह की जांच होती है। पहली जांच में ऐसा परिणाम मिल सकता है। दूसरी ओर डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. यूपी वर्मा ने पहले तो इस मामले को मानने से ही इनकार कर दिया। जब उन्हें दोनों सरकारी अस्पताल की जांच की कॉपी दिखाई गई तो उन्होंने कहा कि यह सामान्य मानवीय भूल हो सकती है।