--Advertisement--

का

का

Dainik Bhaskar

Dec 18, 2017, 05:49 PM IST
Women will be given special treatment in hospital

पटना. सरकार ने माना कि राज्य में स्वास्थ्य और शिक्षा पर अधिक रकम खर्च के बावजूद क्रियान्वयन सही तरीके से नहीं होने से लोगों को परेशानी है। मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं तक महिलाओं की पहुंच अभी भी कम है। सरकार स्वास्थ्य के बेहतर व्यवस्था के लिए काफी राशि खर्च कर रही है।

मानसिक स्वास्थ्य और विकलांगता ऐसे क्षेत्र हैं, जिसमें सुविधाओं की कमी है। राज्य सरकार अस्पतालों में सप्ताह में एक दिन को सिर्फ महिला दिवस घोषित करने पर विचार कर रही है। मंगलवार को वे आद्री व सेंटर फॉर हेल्थ पॉलिसी द्वारा बिहार में स्वास्थ्य पर साक्ष्य आधारित शोध पर कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में मानव संसाधनों और उपकरणों की कमी दूर करने पर जोर दिया जा रहा हे। स्वास्थ्य सेवा व सुविधा के लिए लोगों की वित्तीय साक्षरता और जागरूकता जरूरी है। विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में सुविधाओं के लिए सभी लोगों को मिल कर काम करना होगा। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी है। डॉक्टरों और पैरामेडिकल कर्मियों की कार्य संस्कृति में भी सुधार की जरूरत है। शिशु मृत्यु दर आयी है। 2005 में स्वास्थ्य केंद्रों पर 39 लोग पहुंचते थे, वहीं यह संख्या बढ़ कर 10 हजार से अधिक हो गई है।

सेंटर फॉर हेल्थ पॉलिसी के निदेशक डॉ. बासुदेव गुहा खासनोबीस ने कहा कि संस्थागत प्रसव और माताओं के स्वास्थ्य लाभ संबंधी व्यवहार में होने वाला खर्च और बढ़ा है। साक्षरता, जीविका, जाति और अवस्थिति का भी प्रभाव दिखा है। आद्री के सदस्य सचिव डॉ. शैवाल गुप्ता ने अतिथियों का स्वागत किया। आद्री के निदेशक प्रोफेसर पीपी घोष ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

X
Women will be given special treatment in hospital
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..