--Advertisement--

पूर्व जदयू

पूर्व जदयू

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2017, 10:07 AM IST
अपने लिए दवा लेने आए लोगों ने व अपने लिए दवा लेने आए लोगों ने व

सहरसा. बिहार के सरकारी हॉस्पिटल में मरीजों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है इसकी एक बानगी गुरुवार को सहरसा के सदर अस्पताल में देखने को मिली। एक बेहोश व्यक्ति को तीन लोग टांगकर इमरजेंसी वार्ड में ले जा रहे थे। दो लोगों ने वृद्ध के हाथ पकड़ रखे थे और एक पैर उठाए चल रहा था। तीन घंटे तक बेहोश पड़ा रहा वृद्ध...

- बताया जा रहा है कि बुजुर्ग हॉस्पिटल में दवा लेने आए थे। इसी दौरान वे बेहोश हो गए। हॉस्पिटल के अंदर वह तीन घंटे तक जमीन पर बेहोश पड़े रहे, लेकिन किसी अस्पतालकर्मी ने उनकी सुध न ली।
- लोगों ने अस्पतालकर्मी को सूचना भी दी, लेकिन उन्हें उठा कर बेड तक ले जाने की जहमत किसी अस्पतालकर्मी ने नहीं उठाई।
- कुछ लोगों को इन पर दया आई और इन्हें सदर अस्पताल के बिस्तर तक ले गए। अस्पताल कर्मियों ने बेहोश व्यक्ति को बेड तक ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं दिया।
- उनलोगों ने अस्पताल के इमरजेंसी में तैनात डॉ. एन के सादा से इलाज की गुहार लगाई तब जाकर वृद्ध का इलाज शुरू हुआ।

- बुजुर्ग को टांग कर बेड तक ले जाने वाले महपुरा गांव के भोला यादव ने कहा कि सदर अस्पताल में कोई किसी को देखनेवाला नहीं है। सदर अस्पताल की व्यवस्था खराब है। मैं निजी क्लीनिक का बोझ नहीं उठा सकता इसलिए मजबूरी में सदर अस्पताल आया हूं।
- ड्यूटी पर तैनात डा. एन के सादा ने स्वीकार किया कि कुछ लोगों ने इस मरीज को बेहोशी की हालत में इमरजेंसी में लाकर छोड़ गया। इसका इलाज शुरू कर दिया गया है।

X
अपने लिए दवा लेने आए लोगों ने वअपने लिए दवा लेने आए लोगों ने व
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..