पटना

--Advertisement--

आवाज के

आवाज के

Danik Bhaskar

Nov 25, 2017, 11:51 AM IST

पटना. रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि बाल विवाह और दहेजप्रथा के खिलाफ सामाजिक अभियान चलाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अच्छी पहल की है।

21 जनवरी को बाल विवाह और दहेजप्रथा के खिलाफ मानव श्रृंखला में रालोसपा के नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे। शिक्षा सुधार पर 30 जनवरी को रालोसपा के मानव कतार में जदयू सहित सभी राजनीतिक दल समर्थन और साथ दें। शनिवार को वे भारतीय नृत्य कला मंदिर में युवा रालोसपा द्वारा आयोजित सरदार पटेल की 142 वीं जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरे लौह पुरुष हैं, जिन्होंने पूरे विश्व में भारत का सम्मान बढ़ाया है। सरदार बल्लभ भाई पटेल नहीं होते तो भारत का नक्शा ऐसा मजबूत नहीं होता। उनमें प्रधानमंत्री बनने की भरपूर क्षमता थी, लेकिन पक्षपातपूर्ण रवैया के कारण उन्हें देश का प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया गया।

उन्होंने लड़कियां का आह्वान किया कि दहेज मांगने वालों के घर शादी से इंकार कर दे। लड़कियां पढ़ कर काबिल बनें। राजनीतिक दलों को सामाजिक मुद्दा उठाना चाहिए।
पूर्व मंत्री भगवान सिंह कुशवाहा ने कहा कि एनडीए में शामिल सभी दलों को भागीदारी बराबर मिले। स्वच्छता सहित एनडीए के सभी अभियान में रालोसपा की बड़ी भागीदारी रहती है, इसलिए एनडीए नेतृत्व से आग्रह है कि रालोसपा के नेताओं को भी अधिक तरजीह मिले।

अध्यक्षता करते हुए युवा रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु पटेल ने कहा कि पार्टी की मजबूत करने के लिए युवाओं की सभी कार्यक्रमों में भागीदारी होगी। मंच संचालन करते हुए मुख्य प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा कि सरदार पटेल से युवाओं को सीख लेने की जरूरत है। सांसद रामकुमार शर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री दशई चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी व पंकज मिश्रा ने भी संबोधित किया। मौके पर विधायक हिमांशु शेखर, कोषाध्यक्ष राजेश यादव, सत्यानंद दांगी, जितेंद्र नाथ, अभ्यानंद सुमन, अनिल यादव, श्रीकांत महतो, भोला शर्मा, केतन कुमार, पप्पू वर्मा, संजय कुशवाहा व आशुतोष झा मौजूद थे।

Click to listen..