--Advertisement--

अभियान / आर ब्लॉक-दीघा रेल लाइन पर हटाया गया अतिक्रमण, तोड़ दिए दर्जनों घर



नगर निगम की टीम ने जेसीबी से रेल लाइन पर बने घरों को तोड़ दिया। नगर निगम की टीम ने जेसीबी से रेल लाइन पर बने घरों को तोड़ दिया।
घर तोड़े जाते समय लोग अपने सामान समेटने में जुटे रहे। घर तोड़े जाते समय लोग अपने सामान समेटने में जुटे रहे।
सामान समेटकर नए ठिकाने की ओर जाते लोग। सामान समेटकर नए ठिकाने की ओर जाते लोग।
X
नगर निगम की टीम ने जेसीबी से रेल लाइन पर बने घरों को तोड़ दिया।नगर निगम की टीम ने जेसीबी से रेल लाइन पर बने घरों को तोड़ दिया।
घर तोड़े जाते समय लोग अपने सामान समेटने में जुटे रहे।घर तोड़े जाते समय लोग अपने सामान समेटने में जुटे रहे।
सामान समेटकर नए ठिकाने की ओर जाते लोग।सामान समेटकर नए ठिकाने की ओर जाते लोग।

  • अतिक्रमणकारियों ने घरों से पहले ही निकाल लिए थे सामान 

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2018, 07:43 PM IST

पटना.  आर ब्लॉक से दीघा तक जाने वाली रेल लाइन पर सड़क बनने वाली है। इसके लिए प्रशासन पटरी के दोनों तरफ लोगों द्वारा किए गए अतिक्रमण को हटाने में जुटी है। अभियान के दूसरे दिन बुधवार को हड़ताली मोड़ से पुनाईचक से आगे तक अतिक्रमण हटाया गया। इस दौरान दर्जनों घरों को जेसीबी से तोड़ दिया गया।

 

रेल लाइन के दोनों तरह लोगों ने कहीं झोपड़ी तो कहीं पक्का मकान बना लिया है। यहां बड़ी संख्या में पशुपालकों ने डेरा जमाया लिया था। सुबह से ही कई जेसीबी के साथ नगर निगम की टीम अतिक्रमण हटाने में जुट गई। रेल लाइन पर बने घरों को तोड़ दिया गया। अधिकतर अतिक्रमणकारियों ने घरों से पहले ही सामान निकाल लिए थे, जिनके घरों में अब भी सामान बचे थे वे उन्हें बचाने में जुटे रहे। प्रशासन की सख्ती और भारी संख्या में मौजूद पुलिसकर्मियों के चलते किसी ने विरोध करने की हिम्मत नहीं की। 

 

डीएम कुमार रवि ने कहा है कि रेललाइन की जमीन पर संचालित अवैध खटालों से पशुओं को नहीं हटाने वाले पशुपालकों के पशुओं को जब्त किया जाएगा। इन पशुओं को वेटनरी कॉलेज परिसर में रखने की व्यवस्था की गई है। यहां 1000 पशुओं को रखा जाएगा। अभियान में 100 मजदूरों के साथ 400 पुलिस बल लगाए गए हैं। 

 

घेराबंदी होने के बाद उखड़ेगी पटरी  
अतिक्रमण हटने के बाद जमीन की नापी कर घेराबंदी की जाएगी ताकि दोबारा कब्जा नहीं हो सके। जिला प्रशासन के मुताबिक जमीन की चौड़ाई कहीं 120 फीट तो कहीं उससे अधिक है। नापी कराकर सीमेंट या लोहे का खंभा लगाने के बाद तार से घेराबंदी की जाएगी। इसके बाद रेलवे पटरी को उखाड़ने का काम शुरू करेगा।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..