पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ओएमआर शीट पर व्हाइटनर-स्टेपलर लगाने वाले अभ्यर्थी अयोग्य : हाईकोर्ट

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रतियोगी परीक्षाओं और मैट्रिक-इंटर परीक्षा की तैयारी में जुटे अभ्यर्थियों के लिए कोर्ट व बोर्ड के अहम फैसले
  • अब बिहार बोर्ड से परीक्षा की कॉपी व ओएमआर शीट ले सकेंगे अभ्यर्थी

पटना. हाईकोर्ट ने कहा कि प्रतियोगिता परीक्षा में ओएमआर शीट पर व्हाइटनर, इरेजर या स्टेपलर का इस्तेमाल करने पर अभ्यर्थी को अयोग्य करार देना, कानूनन सही है। न्यायमूर्ति एमके शाह की एकल पीठ ने दायर रिट याचिकाओं को खारिज करते हुए आदेश दिया कि 2017 में हुई बिहार प्रारंभिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के जिन अभ्यर्थियों को इस कारण से बिहार बोर्ड द्वारा अयोग्य करार दिया गया, वह सही है।
 
50 से अधिक लोगों ने इस बारे में रिट याचिका दायर की थी। 23 जुलाई 2017 को परीक्षा हुई थी। 22 सितंबर 2017 को रिजल्ट निकला था। बोर्ड का पक्ष महाधिवक्ता ने रखा। बताया कि परीक्षा के पहले बोर्ड ने विज्ञापन के जरिए सबको बता दिया था कि ओएमआर शीट पर ओवरराइटिंग या उस पर व्हाइटनर आदि का प्रयोग नहीं करना है, वरना वे अयोग्य मान लिए जाएंगे।
 
अब छात्र-छात्राएं बिहार बोर्ड से परीक्षा की कॉपी व ओएमआर शीट आवेदन कर ले सकेंगे। इसके लिए उन्हें चार्ज देना होगा। सीबीएसई की तरह बोर्ड ने भी इसकी व्यवस्था की है। अबतक विद्यार्थी सूचना का अधिकार अधिनियम (आरटीआई) से कॉपी ले सकते थे, पर ओएमआर शीट नहीं मिलती थी। बोर्ड की गवर्निंग बॉडी की शुक्रवार को हुई बैठक में फैसला हुआ कि परीक्षा में शामिल कोई भी छात्र कॉपी व ओएमआर शीट ले सकता है।
 
छात्र को प्रति कॉपी 500 रुपए देने होंगे, जबकि शीट के लिए 100 रुपए लगेंगे। बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि मैट्रिक, इंटर परीक्षा में शामिल छात्र-छात्राओं के अलावा आईटीआई उच्च माध्यमिक परीक्षा, सिमुलतला प्रवेश परीक्षा व अन्य परीक्षाओं के लिए भी यह व्यवस्था लागू की गई है। छात्रों को ऑफलाइन आवेदन करना होगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें