पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आज से यात्रा पर मुख्यमंत्री, लोगों को बताएंगे-जल-हरियाली है, तभी जीवन है

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • यात्रा बेतिया से शुरू होगी, 4 जिलों में जाएगी
  • 16499 आहर, पईन, पोखर और कुंओं पर अतिक्रमण
Advertisement
Advertisement

पटना. अगर जल है, हरियाली है तभी जीवन है। चाहे जीवन मनुष्य का हो, पशु-पक्षी का हो या फिर किसी अन्य जीव-जंतु का हो। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंगलवार को बेतिया से जल-जीवन-हरियाली यात्रा की शुरुआत करते हुए लोगों को यही बात समझाएंगे।


पर्यावरण संरक्षण का अलख जगाने के लिए मुख्यमंत्री अपनी यात्रा के दौरान रेन वॉटर हार्वेस्टिंग, पुनर्जीवित पोखरा-तालाब, सोलर एनर्जी प्लांट और पौध-शालाओं का निरीक्षण के साथ-साथ जागरुकता सम्मेलन भी करेंगे। मोतिहारी में 4 दिसंबर, सीवान में 5 दिसंबर और गोपालगंज में 6 दिसंबर को जल-जीवन-हरियाली यात्रा होगी। तीन साल में सरकार जल-जीवन-हरियाली अभियान पर 24524 करोड़ रुपये खर्च करेगी। मुख्यमंत्री अपनी यात्रा के क्रम में लोगों को खेत में पराली जलाने के खतरे से भी आगाह करेंगे।

बेतिया में ये कार्यक्रम

  • सुबह साढ़े 11 बजे से शुरू होगी यात्रा बेतिया के चंपापुर गनौली में नदी तालाब का करेंगे निरीक्षण
  • 12:15 बजे हरियाली जागरुकता सम्मेलन दोपहर 2 बजे मझौली प्रखंड में मत्स्य पालन देखेंगे
  • शाम 5 बजे बेतिया समाहरणालय में होगी समीक्षा बैठक

16499 आहर, पईन, पोखर और कुंओं पर अतिक्रमण
राज्य में 16499 आहर, पईन, पोखर और कुंओं को जल्द अतिक्रमणमुक्त करने का अभियान शुरू किया जाएगा। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा कराए गए जलस्रोतों के सर्वेक्षण में यह तस्वीर सामने आई है। 1,32,732 जलस्रोतों में से 93643 का सर्वेक्षण कराया गया। इसमें से 2165 पर पक्का अतिक्रमण और 10092 पर कच्चा अतिक्रमण है। सरकार आहर, पईन, पोखर और कुंआ समेत सभी सार्वजनिक जल संग्रहण क्षेत्रों से संबंधित रिपोर्ट जल्द ही सार्वजनिक करके इन्हें अतिक्रमणमुक्त कराएगी।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement