पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Patna News Cnlu Fell In The Fun Of Song And Music Teachers Said Do The Same In The Rain Of Happiness In Society

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गीत-संगीत की मस्ती में झूमा सीएनएलयू, शिक्षकों ने कहा-ऐसे ही करें समाज में खुशियों की बरसात

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के 14वें स्थापना दिवस समारोह में गीत-संगीत और नृत्य ने खूब समां बांधा। फिल्मी गानों पर डांस के धमाल ने सबको थिरकने पर मजबूर किया। इन सबके बीच छात्रों को नैतिक सीख भी दी गई। बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अमरेश्वर प्रताप शाही ने कहा कि सीएनएलयू आज विरासत बन चुका है। चाणक्य के नाम पर इस संस्थान का नाम रखा गया है। यह गर्व का नाम है। यह संस्थान समाज को बेस्ट देने के लिए है ताकि लोगों काे सामाजिक बाधाअाें अाैर परेशानियाें से मुक्ति मिल सके। उन्होंने कहा कि आज जिम्मेदारी सिर्फ यह नहीं है कि हम समाज को लॉ की शिक्षा दें, बल्कि उन्हें मोरल ऑफ लॉ की शिक्षा देनी जरूरी है। रवीन्द्र भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में चीफ जस्टिस ने यह बात कही।

विदुर, कृष्ण, चाणक्य का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि आप जो चाहते हैं, कर सकते हैं। माेरैलिटी और लॉ एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। समाज में जितनी भी चर्चाएं या बहस हाेती हैं उनका मुख्य बिन्दु यही है कि सही क्या है अाैर गलत क्या है। जब आप दिमाग पर जोर डालें तो हमेशा कारण और लॉजिक पर सोचिए। सही आवाज जो आत्मा से निकलती है, वही आपको बताती है कि क्या सही है, क्या गलत है। खुद के अंदर देखें और सही आंसर की तलाश करें। अगर आप डाउट में हैं तो शिक्षक आपके साथ हैं। उन्होंने कहा कि आप अनुभवों से सीख लें। आपका काम आज समाज को कष्ट से बचाना है। आप देश का भाग्य बदलने वाले हैं। विशिष्ट अतिथि पटना हाईकोर्ट के जज अनिल कुमार उपाध्याय ने कहा कि इस संस्थान ने कई ऊंचाइयां छुआ है। हम और भी बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। सीएनएलयू की वीसी जस्टिस मृदुला मिश्रा ने कहा कि 14 अगस्त 2006 को इस संस्थान की स्थापना हुई थी। तब यह एएन सिन्हा के कैंपस में चलता था। 17 अगस्त 2010 को हमलोग मीठापुर स्थित कैंपस में गए। तब से आजतक कई चुनौतियों का सामना हमने किया है। आज यह विश्वविद्यालय श्रेष्ठता के ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। समारोह में पटना हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार बीबी पाठक, रजिस्ट्रार सीएनएलयू एमपी श्रीवास्तव, प्रो. एसपी सिंह, डॉ. प्रियदर्शिनी सहित कई लोग मौजूद थे।

सभी नगमे ऊंचे कंठ से गाए नहीं जाते, जिगर के जख्म चौराहों पर दिखाए नहीं जाते...
स्थापना दिवस समारोह में चीफ जस्टिस शायराना अंदाज में नजर आए। समारोह की शुरुआत में ही उन्होंने कहा कि सभी नगमे ऊंचे कंठ से गाए नहीं जाते, जिगर के सारे जख्म चौराहों पर दिखाए नहीं जाते। जिसे देखा बेताब देखा, उफ, शहर में कहीं भी नींव के पत्थर तक नहीं पाए जाते। छात्रों को शिक्षा देते हुए उन्होंने आपातकाल के दौरान कवि नीरज के द्वारा इलाहाबाद विश्वविद्यालय के लॉ के छात्रों को सुनाई गई कविता को पढ़ा- अमन बेच देंगे, चमन बेच देंगे, कलम के पुजारी अगर सो गए तो ये धन के पुजारी वतन बेच देंगे।

दोष किसका है इसे बाद में तय कर लेंगे, पहले इस नाव को तूफां से बचाया जाए

ऐब औरों का गिनाने में महारत है जिन्हें, ऐसे हर शख्स को आईना दिखाया जाए...

सीएनएलयू के स्थापना दिवस समाराेह में उपस्थित छात्र-छात्राएं व कानूनविद‌्।

सांस्कृतिक कार्यक्रम से छात्र-छात्राओं ने बांधा समां

स्थापना दिवस समारोह में सांस्कृतिक कार्यक्रम से छात्र-छात्राओं ने समां बांध दिया। शुरुआत में अलिविया व उड़ी ने नैनो में भर दे रसिया..गाने पर कथक नृत्य प्रस्तुत किया। उसके बाद सिद्धार्थ और उसकी टीम ने कैसे बताएं, क्यूं तुझको चाहें व एक पंजाबी गाने की प्रस्तुति दी। फ़र्स्ट इयर की छात्रा सिमरन, अपराजिता व प्रेक्षा ने पूरा लंदन ठुमक दा गाने पर डांस किया। ड्रैमेटिक सोसायटी अविर्भाव की ओर से मुजफ्फरपुर लाइव प्ले भी आयोजित किया गया। वेस्टर्न डांस में अनिकेत, अनुग्रह व चंद्रकांत ने प्रस्तुति दी।पहला पुरस्कार सिद्धार्थ व उसकी टीम को मिला जबकि दूसरा पुरस्कार अलिविया व उड़ी को दिया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपका अधिकतर समय परिवार तथा फाइनेंस से जुड़े महत्वपूर्ण कार्यों में व्यतीत होगा। और सकारात्मक परिणाम भी सामने आएंगे। किसी भी परेशानी में नजदीकी संबंधी का सहयोग आपके लिए वरदान साबित होगा।। न...

    और पढ़ें