--Advertisement--

बुखार नहीं होने पर भी डेंगू संभव

डेंगू का इसबार बदला स्वरूप देखने को मिल रहा है। ठंड की शुरुआत होने के बावजूद डेंगू का प्रकोप जारी है। ऐसे भी मरीज आ...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 04:21 AM IST
Patna - dengue possible even when there is no fever
डेंगू का इसबार बदला स्वरूप देखने को मिल रहा है। ठंड की शुरुआत होने के बावजूद डेंगू का प्रकोप जारी है। ऐसे भी मरीज आ रहे हैं जिन्हें बुखार नहीं है, लेकिन जांच कराने पर पता चलता है कि वह डेंगू से पीड़ित है। डेंगू के अन्य लक्षणों में उल्टी, बदन दर्द, खुजली, शरीर में दाने या लाल चकत्ता निकलना, कहीं से ब्लीडिंग होना आदि शामिल है। मुंह (दांत) या शौच से खून निकलना डेंगू का खतरनाक लक्षण है। ऐसे लक्षण मिलने पर चिकित्सक से संपर्क कर तुरंत जांच करा लेनी चाहिए। यह कहना है पारस हॉस्पिटल के वरीय फिजिशियन डॉ. वीके ठाकुर का। वे दैनिक भास्कर की हेल्थ काउंसिलिंग में पाठकों को सलाह दे रहे थे। उन्होंने कहा कि डेंगू मरीजों को दांत साफ करने के लिए ब्रश का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे मसूढ़ों से ब्लीडिंग होने की आशंका रहती है। अंगुलियों से दांत साफ कर लेना चाहिए। प्लेटलेट्स की जांच कराते रहना चाहिए। मरीज को हर आधे घंटे पर तरल पदार्थ लेते रहना चाहिए। चाहे वह पानी ही क्यों न हो।

हेल्थ रिपोर्टर | पटना

डेंगू का इसबार बदला स्वरूप देखने को मिल रहा है। ठंड की शुरुआत होने के बावजूद डेंगू का प्रकोप जारी है। ऐसे भी मरीज आ रहे हैं जिन्हें बुखार नहीं है, लेकिन जांच कराने पर पता चलता है कि वह डेंगू से पीड़ित है। डेंगू के अन्य लक्षणों में उल्टी, बदन दर्द, खुजली, शरीर में दाने या लाल चकत्ता निकलना, कहीं से ब्लीडिंग होना आदि शामिल है। मुंह (दांत) या शौच से खून निकलना डेंगू का खतरनाक लक्षण है। ऐसे लक्षण मिलने पर चिकित्सक से संपर्क कर तुरंत जांच करा लेनी चाहिए। यह कहना है पारस हॉस्पिटल के वरीय फिजिशियन डॉ. वीके ठाकुर का। वे दैनिक भास्कर की हेल्थ काउंसिलिंग में पाठकों को सलाह दे रहे थे। उन्होंने कहा कि डेंगू मरीजों को दांत साफ करने के लिए ब्रश का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे मसूढ़ों से ब्लीडिंग होने की आशंका रहती है। अंगुलियों से दांत साफ कर लेना चाहिए। प्लेटलेट्स की जांच कराते रहना चाहिए। मरीज को हर आधे घंटे पर तरल पदार्थ लेते रहना चाहिए। चाहे वह पानी ही क्यों न हो।



डॉ. वीके ठाकुर वरीय फिजिशियन, पारस हॉस्पिटल

डॉ. वीके ठाकुर वरीय फिजिशियन, पारस हॉस्पिटल


जांच में यदि कुछ नहीं निकला है तो शरीर की इम्युनिटी पावर कम रहने से भी बार-बार इन्फेक्शन लगने की आशंका रहती है। बीमारी से लड़ने की शक्ति कम होने पर बार-बार बुखार आ सकता है। इम्युनिटी बढ़ाने की जरूरत है। इसके लिए उसे पौष्टिक आहार दें।


चार-पांच दिन और सावधानी बरतने की जरूरत है। खासकर मच्छरों से बचाव करना है। संतुलित आहार दें। हर आधे घंटे पर थोड़ा पानी, नारियल पानी या जूस दें। बच्ची को मच्छरदानी में रखें। फल, हरी सब्जी दें।


चिकित्सक की सलाह पर खून की अन्य जांच के अलावा डेंगू की जांच करा लें।


अभी की स्थिति में डेंगू की जांच करा लें।




प्रोस्टेट में सूजन होने या इन्फेक्शन लगने पर भी पेशाब से खून आता है। किसी यूरोलॉजिस्ट से तुरंत संपर्क करें। इसे हल्के में नहीं लें। पेशाब के रास्ते खून आना ठीक नहीं है। कुछ विशेष जांच करने की जरूरत होगी।

इन्होंने भी किया फोन

सौरभ कुमार (मारूफगंज), हिमांशु श्रीवास्तव (पटना), सुशील कुमार सिन्हा (पटना), झूलन लाल (बक्सर), दीनानाथ ठाकुर (पंडारक), ओमप्रकाश वर्मा (नौबतपुर), रेमंड चमनी (कुर्जी), शिवशंकर शर्मा (पटना सिटी), अखिलेश महतो (वैशाली), केशव प्रधान (दानापुर), दिनेश प्रसाद (जानीपुर), अजीत कुशवाहा (खगौल)।

Patna - dengue possible even when there is no fever
X
Patna - dengue possible even when there is no fever
Patna - dengue possible even when there is no fever
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..