एनआईआरएफ में आईआईटी-एनआईटी, सीएनएलयू अाैर सीयूएसबी से ही उम्मीद

Patna News - उच्च शिक्षण संस्थानों की रैंकिंग अगले माह में जारी होनी है। एमएचआरडी ने नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क...

Mar 28, 2020, 08:05 AM IST

उच्च शिक्षण संस्थानों की रैंकिंग अगले माह में जारी होनी है। एमएचआरडी ने नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) को रैंकिंग का जिम्मा दिया है, जिसके लिए आवेदन की प्रक्रिया पिछले साल ही समाप्त हो चुकी है। हर साल अप्रैल के पहले सोमवार को एनआईआरएफ की रैंकिंग जारी होने की तिथि निर्धारित है। इस बार 6 अप्रैल को रैंकिंग जारी हो सकती है। लेकिन नौ मानकों पर जारी होने वाली इस रैंकिंग में बिहार के तमाम पुराने शैक्षणिक संस्थान नहीं दिखेंगे। यदि कहीं कुछ दिखेगा तो उसमें बीते 10 साल में खुले आईआईटी, एनआईटी, सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार और चाणक्य राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय ही हाेंगे।

आईआईटी पटना को मिली है हर बार जगह : एनआईआरएफ की रैंकिंग में बिहार से सिर्फ आईआईटी पटना ही ऐसा संस्थान है, जिसे हर बार जगह मिली है। 2016 में जारी पहली रैंकिंग में इंजीनियरिंग कॉलेजों में आईआईटी पटना को 10वां स्थान मिला था। 2017 में 19वां, 2018 में 24वां और 2019 में 22वां स्थान मिला।

एनआईटी और सीयूएसबी से भी उम्मीद : 2016 में आईआईटी पटना के साथ एनआईटी पटना और सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार को भी जगह मिली थी। लेकिन 2017 में दोनों रैंकिंग से बाहर हो गए। 2018 में सिर्फ चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ने आवेदन किया था। लॉ फैकल्टी के लिए पहली बार अलग से टॉप 10 संस्थानों की रैंकिंग 2018 में जारी की गई। तब कुल 71 संस्थानों ने आवेदन किया था, जिसमें बिहार से चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी भी शामिल थी। लेकिन टॉप 10 में अपनी जगह नहीं बना पाई। उम्मीद एनआईटी, सीयूएसबी और सीएनएलयू से है जो लगातार प्रयासरत हैं। कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन से रैंकिंग की तिथि में बदलाव हो सकता है, जिसकी आधिकारिक सूचना जारी नहीं हुई है।

पांच साल में किसी स्टेट यूनिवर्सिटी ने नहीं किया आवेदन

एनआईआरएफ की रैंकिंग के लिए पटना विश्वविद्यालय समेत राज्य की किसी यूनिवर्सिटी या किसी कॉलेज आवेदन ही नहीं किया है। रैंकिंग जारी करने का सिलसिला 2015 से देश में शुरू हुआ। इसमें टॉप 100 विश्वविद्यालयों की सूची होती है। एनआईआरएफ की रैंकिंग में नहीं शामिल होने के बारे में पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रासबिहारी सिंह ने बताया कि पिछले साल पीयू की नैक ग्रेडिंग हो चुकी है। हमारी अगली प्राथमिकता एनआईआरएफ ही है। अगले साल इसके लिए आवेदन करेंगे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना