मानव के लिए संपत्ति-स्वजन का त्याग आसान, पर अभिमान त्यागना कठिन

Patna News - चातुर्मास पर पटना के कदमकुआं स्थित दिगम्बर जैन मंदिर पहुंचे जैन मुनियों के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:40 AM IST
Patna News - for humans sacrifice is easy but it is difficult to give up pride
चातुर्मास पर पटना के कदमकुआं स्थित दिगम्बर जैन मंदिर पहुंचे जैन मुनियों के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ पहुंच रही है। दर्शन और आशीर्वाद को आए श्रद्धालुओं को जैन मुनियों के प्रवचन का भी लाभ हो रहा है। इसी कड़ी शनिवार को स्थित जैन मुनि संत आचार्य श्री 108 भद्रबाहु सागर जी महाराज का प्रवचन सुनने के लिए सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थे। जैन मुनि ने कहा कि मानव के लिए अभिमान का त्याग करना कठिन है और शुभ भाव आत्मा को मुक्ति के पथ पर अग्रसर करते हैं। मानव के मन में द्रव्य, काल, क्षेत्र और भाव का प्रभाव होता रहता है। परमात्मा, गुरुजन या अन्य महापुरुष के चित्र के समक्ष होने पर उनके जीवन के अनुसरण का भाव जागृत होता है।

मुनि श्री ने कहा कि वर्षायोग यानि चातुर्मास के दौरान जैन साधु-साध्वी स्वकल्याण के उद्देश्य से ज्यादा से ज्यादा स्वाध्याय, प्रतिक्रमण, तप, ध्यान-साधना और प्रवचन में लगे रहते हैं। महाराज श्री ने धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहा कि जब हिंसा या अन्य वीभत्स दृश्य आते हैं तब मन में पाप वृत्तियां और कुसंस्कार उजागर होते हैं। धर्म अथवा वर्षावास, चातुर्मास, पर्युषण आदि पर्वों में मन में शुभ भाव बनता है। मंदिर या गुरुजन के साधना स्थल पर जाने पर मन में स्वत: ही त्याग और व्रत नियम के भाव पैदा होते हैं,जबकि मनोरंजन या पर्यटन स्थल पर मौज, शौक व विलासिता के विचार आते हैं। वहीं व्यापार शुरू होने पर लोभ का भाव पैदा होता है। आचार्य श्री ने कहा कि जब मन में शुभ भाव पैदा होता है तो वह आत्मा को मुक्ति भाव के पथ पर अग्रसर करता है जबकि अशुभ भाव पैदा होते ही सब पतन के गर्त में चला जाता है।

उन्होंने कहा कि मानव शब्द में मान शब्द ही अभिमान का है। मानव के लिए सत्ता, संपत्ति व स्वजन का त्याग तो आसान है लेकिन अपने अभिमान का त्याग करना कठिन है। इसी कारण उसमें अभिमान, क्रोध, माया, लोभ के भाव पैदा होते हैं। कई युद्ध इन्हीं कारणों से हुए हैं। विश्व युद्ध हो या मन के लघु युद्ध अधिकतर सभी क्रोध के कारण ही होते हैं। आचार्य ने कहा कि कषायों से मुक्त होने के लिए चातुर्मास है।

इस मौके पर मुनि संघ चातुर्मास समिति के संयोजक मुकेश जैन ने बताया कल श्री पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, कांग्रेस मैदान में पाटलिपुत्र दिगम्बर जैन समिति के तत्वावधान में चातुर्मास कलश स्थापना समारोह का अपराह्न 1 बजे से भव्य आयोजन होगा। महामंत्री अजित जैन ने बताया कि चातुर्मास स्थापना समारोह का शुभारंभ कल रविवार को प्रातः नित्य अभिषेक , शांतिधारा , पूजन के पश्चात होगा। मांगलिक कार्यक्रम की शुरुआत ध्वजारोहण, चित्र अनावरण , दीप प्रज्वलन के साथ गुरुदेव के पाद प्रक्षालन से होगी। इसके वाद आचार्य श्री का मंगल प्रवचन होगा। 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा व 17 जुलाई को वीर शासन जयंती पर्व विविध कार्यक्रमों के बीच हर्षोल्लास पूर्वक मनाया जाएगा। इसमें काफी संख्या में जैन धर्मावलंबियों का जुटान होगा।

X
Patna News - for humans sacrifice is easy but it is difficult to give up pride
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना