विज्ञापन

पत्नी की खत्म होती जिंदगी को दो साल से थामे रखा है गिरधर झुनझुनवाला ने

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 04:42 AM IST

Patna News - एग्ज़ाम सीज़न और प्रेम का त्योहार वेलेंटाइन डे लगभग साथ-साथ आता है। वैसे, देखा जाए तो प्रेम भी एक तरह की परीक्षा ही...

Patna News - gidhar jhunjhunwala has kept the life of the wife alive for two years
  • comment
एग्ज़ाम सीज़न और प्रेम का त्योहार वेलेंटाइन डे लगभग साथ-साथ आता है। वैसे, देखा जाए तो प्रेम भी एक तरह की परीक्षा ही है। इस परीक्षा में कोई पास होता है, कोई फेल। कुछ अपने प्रेम के लिए जीवनभर परीक्षाएं देते हैं और कुछ कहानियां ऐसी भी मिलती हैं, जहां छोटी-सी परीक्षा में बड़ी कामयाबी मिल जाती है। प्रेम की सक्सेस स्टोरीज़ ढूंढ़ने निकलिए तो कहीं साइंंस से वास्ता पड़ता है तो कहीं आट्‌र्स से। कॉमर्स भी कहां अछूता है। तो, इस वेलेंटाइन डे सिटी भास्कर पटनाइट्स के बीच से ऐसी ही कुछ चुनिंदा कहानियों को सामने ला रहा है, जहां ऐसे एग्जाम दिए गए हों या दिए जा रहे हों।

मशीन देती हैं सांसें, हमेशा साथ रहकर पति देते हैं साहस

पांच मिनट की लापरवाही जिंदगी पर भारी पड़ सकती है, इसलिए गिरधर झुनझुनवाला वर्षों से अपनी प|ी हंसा के साथ साये की तरह रहते हैं। बेइंतहा प्रेम तो है ही, इस प्रेम को जिंदा रखने में साइंस का भी योगदान कम नहीं है। नागेश्वर कॉलोनी के रॉयल गार्डन अपार्टमेंट स्थित इनके फ्लैट पर जाएंगे तो बेडरूम में एक बड़ी मशीन दिखेगी। वहीं एक छोटी मशीन भी। यह मशीनें ऑक्सीज़न कन्संटट्रेटर हैं। एक बिजली और एक बिजली-बैटरी ऑपरेटेड। यह मशीन इसलिए क्योंकि हंसा के लंग्स की कैपिसिटी जीरो हो चुकी है। मशीन वातावरण से ऑक्सीजन खींचकर मशीन के सिलिंडर में डालती है और फिर प्यूरीफाइड ऑक्सीजन तय प्रेशर पर लंग्स तक पहुंचाती है।

गिरधर बताते हैं कि दो बेटी और एक बेटे की पढ़ाई-लिखाई ही चल रही थी कि 2007 में हंसा की तबीयत अचानक बिगड़ी। मुंबई के लीलावती में दिखाया तो उन्होंने साफ कहा कि लंग्स कमजोर हो गया है, कुछ साल की जिंदगी है। मन टूटा, लेकिन दिल ने हिम्मत दी। दिल्ली-मुंबई से लेकर विदेश तक दिखाता रहा। बीमारी बढ़ती गई, लेकिन हमारा प्यार हर दिन इम्तिहान को पास करता गया। पिछले दो साल से हंसा पूरी तरह बेड पर हैं और पांच-सात मिनट के लिए भी मशीन हटाना उनकी जिंदगी को खतरे में डालना है। हंसा का शरीर मेरा ख्याल रखने में असमर्थ है, लेकिन दिमागी तौर पर वह हमेशा यह कमी पूरी करती हैं। मैं हर दिन चाय बनाकर साथ में पीता हूं और वह मेरी हर रूटीन को बेड से ही नेविगेट करती हैं। बड़ी बेटी और दामाद दोहा में हैं और बेटा आईआईटी दिल्ली में। बहुत जरूरी काम से घर छोड़ता हूं तो छोटी बेटी मां का ख्याल रखने में कसर नहीं छोड़ती।

साइंस ऑफ लव

कहीं प्रेम ने बदली जिंदगी कहीं जिंदगी ने दिया इश्क

प्रेम में दिमाग की नहीं सुनते, इसलिए तो प्रेयसी के लिए बनाई बे-सिर की मूर्तियां

अमृत ने कभी निमि की रैगिंग ली थी, अब हैं प|ी

अमृत प्रकाश साह और निमि सिन्हा दोनों पटना आर्ट कॉलेज के स्टूडेंट रहे हैं। अमृत मूर्तिकार हैं और निमि प्रिंट मेकर। दोनों ने प्रेम विवाह किया। दोनों की जाति अलग। कहानी की शुरुआत 2008 से होती है। उस समय अमृत आर्ट कॉलेज में थर्ड ईयर के स्टूडेंट थे और निमि फर्स्ट ईयर में आई थीं। कॉलेज के बुद्धा गार्डेन में इंट्रोडक्शन के दौरान निमि से गाना गाने को कहा गया। निमि लगीं रोने। अमृत ने पांच रुपए का स्नैक्स दिया तो निमि चुप हुईं। अमृत कहते हैं कि बड़ा अफसोस हुआ कि निमि की रैगिंग क्यों ली। पुरुषों के दिमाग पर मुझे बहुत तरस आया। आगे मैंने उसके लिए कई मूर्तियां बनाईं। मूर्तियों की एक सीरीज तो ऐसी बनाई जिसमें पुरुषों का दिमाग मैंने गायब कर दिया। यानी, बिना सिर वाली मूर्तियां बनाईं। ये मूर्तियां बताती हैं कि प्यार में पुरुषों का दिमाग न ही हो तो अच्छा है।

अमृत बिना सिर वाली मूर्तियों के बारे में बताते हैं कि ये अनकंडिशनल लव को दिखाती हैं। लव में दिमाग लगाना ठीक बात नहीं, यही दिखाने के लिए मैंने यह स्कल्पचर बनाई। वह कहते हैं कि हम दोनों की प्रेम कहानी में दिमाग का कोई रोल ही नहीं रहा। नौ साल तक प्यार के बाद 2018 में शादी की। इस बीच दोनों देश के अलग-अलग शहर में पढ़ाई के सिलसिले में रहे। दोनों की जाति अलग होने के कारण घर वाले तैयार नहीं थे। हम दोनों ने अपने-अपने घर वालों से कह दिया था कि शादी ही नहीं करेंगे। वर्षों तक यह चला। फिर एक दिन दिल में क्या आया कि बिना कुछ दिमाग चलाए पटना में आशियाना नगर के पास शिव मंदिर में शादी कर ली। दोनों को कला के लिए राज्य सरकार की ओर से भी पुरस्कार मिल चुके हैं।

कंटेंट : कुमार जितेंद्र ज्योति, प्रणय प्रियंवद, आशीष, एकता कुमारी

आर्ट‌्स ऑफ लव

Patna News - gidhar jhunjhunwala has kept the life of the wife alive for two years
  • comment
X
Patna News - gidhar jhunjhunwala has kept the life of the wife alive for two years
Patna News - gidhar jhunjhunwala has kept the life of the wife alive for two years
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें