दूसरों को मूर्ख बनाने वाले दूरियां अपनाएं और लॉकडाउन में खुद मूर्खता से बचें

Patna News - कोरोना वायरस संक्रमण काल में आज अप्रैल फूल डे को एक सबक के तौर पर ले सकते हैं। जब पूरी दुनिया इसके भयावह स्वरूप को...

Apr 01, 2020, 08:05 AM IST

कोरोना वायरस संक्रमण काल में आज अप्रैल फूल डे को एक सबक के तौर पर ले सकते हैं। जब पूरी दुनिया इसके भयावह स्वरूप को देख रही है, ऐसे में कुछ ऐसे मूर्ख भी हमारे बीच नजर आ रहे हैं, जो इसकी सावधानियों को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। इतनी अपील और इतना समझाने के बावजूद कुछ लोग लॉकडाउन होने के बाद घरों से बाहर बेवजह निकल रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। हाथ धोने और साफ-सफाई से अब भी दूरी बनाए हुए हैं। ऐसे में संक्रमण का दायरा बढ़ने का अंदेशा बना हुआ है। जरूरी है कि इस तरह से मूर्खता कर रहे लोगों को सतर्क किया जाए कि उनकी जरा सी चूक कई लोगों की जान पर बन सकती है। कुछ सोशल मीडिया में अफवाह और ऊल-जुलूल बातें फैलाने से भी बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसी स्थिति में ऐसे मूर्ख लोगों से दूरी बनाना भी सोशल डिस्टेंसिंग ही होगी और अप्रैल फूल-डे सार्थक साबित होगा।

बेवजह बाहर निकलने वालों में आत्म-नियंत्रण की कमी

क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट प्रो. निधि सिंह कहती हैं, इस लॉकडाउन के बीच भी बेवजह घर से बाहर निकलना आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ बताता है। ऐसे लोग बहुमुर्खी व्यक्तित्व के हो सकते हैं। उनके भीतर लोगों की अटेंशन और सेंसेशन पाने की तीव्र लालसा होती है। साथ ही ऐसे लोगों में आत्म-नियंत्रण की कमी होती है। वे आगे कहती हैं, मनोवैज्ञानिकों का ये भी मानना है कि बिना वजह मन और शरीर दोनों का ही घूमते रहना कहीं न कहीं जीवन से असंतुष्ट और खुश न होने की निशानी भी है। ऐसे में आप मूर्खता की हद न पार करें और अपने घरों में ही रहें।


कागजात दिखा ट्रैफिक पुलिस को न बनाएं मूर्ख

रूपसपुर के थाना प्रभारी चंद्रभानु कहते हैं कि अक्सर लोग हॉस्पिटल व डॉक्टर्स के कागजात दिखाकर इस लॉकडाउन के समय में भी रोड पर निकल रहे हैं। वे यह नहीं समझ पा रहे हैं कि अभी के समय में कोरोना से लोगों को बचाने के लिए मेडिकल इमरजेंसी लगाई गई है। बावजूद इसके वे शाम के वक्त बिना किसी कारण के रोड पर निकल जा रहे हैं। ऐसे लोगों को लेकर वे कहते हैं कि ये सभी महामूर्ख हैं। लेकिन वो महामूर्ख हॉस्पिटल के कागजात के नाम पर ट्रैफिक पुलिस को मूर्ख न बनाएं।

स्मार्टफोन रखते हैं तो स्मार्ट भी बनें, न मूर्ख बनें और न बनाएं

कोरोना को लेकर सोशल साइट्स पर तमाम तरह की अफवाहें फैलाई जा रही हैं। प्रो. निधि कहती हैं, कहीं न कहीं इन संदेशों का आदान-प्रदान करना खुद को दूसरों के सामने तेज-तर्रार, स्मार्ट, वेल-इंफॉर्मड दिखाना होता है। साथ ही वैसे लोगों की पर्सनालिटी के लिए ये खाद-पानी का भी काम करता है। वहीं, कई बार ‘ट्विस्टेड साइकी’ वाले व्यक्ति जिनके आनंद-अनुभूति का मानसिक तंत्र स्वस्थ नहीं है, वैसे लोग सोशल साइट्स पर तरह-तरह के शॉकिंग न्यूज भेजकर दूसरों को इंफॉर्मेशन के नाम पर परेशान और मिसलीड करते हैं। ऐसे में अगर आप भी स्मार्टफोन रखते हैं तो फिर स्मार्ट बनें। साथ ही साथ न दूसरों को मूर्ख बनाएं और न ही खुद बनें।

बिना काम के घर से निकलने वाले अपने साथ दूसरों को भी संकट में डाल रहे

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना