• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • In April 2020, DEO and DPO will be acted upon if the ninth education in Panchayats does not start.

हिदायत / अप्रैल 2020 में पंचायतों में नौंवी की पढ़ाई शुरू नहीं होने पर डीईओ व डीपीओ पर होगी कार्रवाई

सचिवालय, पटना। सचिवालय, पटना।
X
सचिवालय, पटना।सचिवालय, पटना।

  • अपर मुख्य सचिव ने सभी पंचायतों में नौंवी की पढ़ाई शुरू कराने के लिए 13 जिलों के अधिकारियों की ली बैठक
  • 75 डिसमिल से कम जमीन वाले मध्य विद्यालयों में दूसरे शिफ्ट में होगी नौंवी की पढ़ाई
  • पंचायत के किस स्कूल में नौंवी की होगी पढ़ाई तय करने की जिम्मेदारी डीईओ की

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 07:29 PM IST

पटना. शिक्षा विभाग कड़ी हिदायत दी है कि अप्रैल 2020 में एक भी पंचायत में नौंवी की पढ़ाई छूट गई तो उस जिले के डीईओ और डीपीओ पर कड़ी कार्रवाई होगी। जिस पंचायत के एक भी मध्य विद्यालय में 75 डिसमिल जमीन की उपलब्धता नहीं होने पर उस मध्य विद्यालय में नौंवी की पढ़ाई दूसरे शिफ्ट में शुरू करायी जाएगी। ऐसे मध्य विद्यालय पंचायत मुख्यालय या निकटतम जगह पर होने चाहिए। पंचायत के स्कूल चिह्नित करने के किसी शिकायत या विवाद का निष्पादन की जिम्मेदारी भी जिला शिक्षा पदाधिकारी को दे दी गई है। मार्च 2020 तक नये क्लास रूम, शौचालय, पेयजल आदि की व्यवस्था पूरा कर लेना है। अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने बुधवार को नौंवी की पढ़ाई शुरू कराने पर बैठक में डीईओ को नौंवी की पढ़ाई प्राथमिकता के आधार पर शुरू कराने के लिए कहा।

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि यह सरकार का महत्वपूर्ण निर्णय है। इसे पूरा करने में कोताही बर्दास्त नहीं की जाएगी। इसके लिए दोषी अधिकारियों को चिह्नित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। राज्य के छूटे हुए 2950 पंचायतों में नौंवी की पढ़ाई शुरू करनी है। 16 जिलों में 13 जिलों के डीईओ, डीपीओ और बीएसआरडीसी के इंजीनियर मौजूद थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जिलों में भ्रमण कार्यक्रम के कारण पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण और गोपालगंज के अधिकारी बैठक में नहीं थे। इन जिलों की बैठक आगामी सोमवार को होगी। अन्य 22 जिलों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक 6 दिसंबर को होगी।

बैठक के दौरान नौंवी की पढ़ाई शुरू करने के लिए स्कूल के के नाम प्रस्ताव पर आयी आपत्ति पर चर्चा की गई। बिहार राज्य शिक्षा आधारभूत संरचना निगम के इंजीनियर ने अधिकारियों से कहा विवाद का निबटारा के बाद जो फाइनल स्कूल है, उसका नाम सही कर भेज दें। गया जिले के 94 पंचायतों में नौंवी की पढ़ाई शुरू करनी है। 5 ऐसे पंचायत हैं, जिसके किसी भी मध्य विद्यालय के पास 75 डिसमिल जमीन नहीं है। जिलों के अधिकारियों ने विभाग को जिस मध्य विद्यालय में नौंवी की पढ़ाई शुरू करनी है, उस स्कूल की सूची भी विभाग को दी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना