--Advertisement--

48 घंटे की रिमांड पर लेकर बाल संरक्षण पदाधिकारी से पुलिस टीम ने शुरू की पूछताछ

पुलिस यह जानना चाह रही है कि किशोरियों के यौन उत्पीड़न में और कौन-कौन लोग शामिल है।

Danik Bhaskar | Jul 03, 2018, 03:06 PM IST

मुजफ्फरपुर. बालिका गृह कांड में जेल में बंद जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी रवि रौशन को पूछताछ के लिए महिला थानेदार ज्योति कुमार ने सोमवार की शाम 48 घंटे के रिमांड पर लिया। रात में उससे नगर डीएसपी मुकुल रंजन, नगर थानेदार मो. शुजाउद्दीन, महिला थानेदार समेत कई पुलिस कर्मियों ने पूछताछ की।

पुलिस यह जानना चाह रही है कि किशोरियों के यौन उत्पीड़न में और कौन-कौन लोग शामिल है। बालिका गृह को कई बार वहां से दूसरी जगह हटाने की अनुशंसा की गई लेकिन क्यों शिफ्ट नहीं कराया गया। पर्याप्त संख्या में सीसी कैमरे क्यों नहीं लगवाए गए थे। इसके लिए विभागीय स्तर पर बालिका गृह संचालन से जुड़ी एनजीओ पर क्यों कार्रवाई नहीं की गई। पुलिस यह भी जानना चाह रही है कि उनकी पत्नी ने विभागीय साजिश के बिंदू पर सवाल उठा रही हैं। इसके पीछे हकीकत क्या है।

पीड़ित किशोरियों ने यौन शोषण करने वाले कई लोगों का हुलिया बताया है। उस हुलिया के आधार पर रवि रौशन से आरोपितों का सत्यापन भी कराया गया। हालांकि पूछताछ में रवि रौशन को खुद को निर्दोष बताते रहे। उन्हें नगर थाना के हाजत में रखा गया है। नगर डीएसपी ने बताया कि रवि रौशन से कुछ बिंदुओं पर पूछताछ हुई है, मंगलवार को भी उनसे पूछताछ की जाएगी।