पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

फेल को पास करो...अड़े जूनियर डॉक्टरों ने पीएमसीएच में नहीं ली मरीजों की खैर

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • साल में चौथी बार ऐसा : कार्य बहिष्कार से परिजन मरीजों को बाहर ले जाने के लिए मजबूर
  • तीन सदस्यीय कमेटी गठित, 24 घंटे में 21 मरीजों की मौत

पटना. पीएमसीएच के हड्डी विभाग के हेड को हटाने और फेल छात्रों को पास करने की मांग लेकर जूनियर डॉक्टरों का कार्य बहिष्कार शनिवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। इससे मरीजों की परेशानी बढ़ गई है। बीते साल अगस्त से अबतक विभिन्न मांगों को लेकर जूनियर डॉक्टर चार बार कार्य बहिष्कार कर चुके हैं। प्राचार्य डाॅ. विद्यापति चौधरी ने मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित की है।

 

वहीं अधीक्षक डॉ. राजीव रंजन प्रसाद ने जेडीए की शिकायत पर हड्डी विभाग के हेड से स्पष्टीकरण मांगा है। अधीक्षक ने कहा कि छात्रों ने अारोप लगाया है कि उन्हें खास दवाएं लिखने को कहा जाता है। एेसा नहीं करने पर फेल कर दिया गया है। अधीक्षक ने कहा कि जांच रिपोर्ट में जो दोषी पाए जाएंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी।

 

इधर, शुक्रवार की शाम 5 से शनिवार की शाम 5 बजे तक इमरजेंसी में 21 मरीजों की मौत हुई है। हालांकि अस्पताल प्रशासन इसे सामान्य बता रहा है। इनका कहना है कि जूनियर डॉक्टरों के कार्य बहिष्कार से इनकी मौत नहीं हुई है। सभी गंभीर मरीज थे। सामान्य दिनों में भी इससे अधिक मौतें होती हैं। 

 

क्या हैं जेडीए की मांगें
जेडीए अध्यक्ष डॉ. शंकर भारती ने कहा कि तीन प्रमुख मांगाें को लेकर जूनियर डॉक्टर कार्य बहिष्कार कर रहे हैं। हड्डी विभाग के जिन पीजी छात्रों को जानबूझकर फेल किया गया है, उन्हें उत्तीर्ण किया जाए। हड्डी विभाग के हेड को हटाया जाए। बीते कई वर्षों से विभागाध्यक्ष एक ही कंपनी की दवा लिख रहे हैं या लिखवा रहे है। इसकी उच्चस्तरीय कमेटी गठित कर जांच कराई जाए। 

 

नहीं बना इमरजेंसी के लिए डॉक्टरों का कैडर
सेंट्रल इमरजेंसी को सुचारु रूप से चलाने के लिए 25 डॉक्टरों का इमरजेंसी कैडर तैयार करना था, जो अबतक नहीं बना। यही कारण है कि कार्य बहिष्कार होने पर हायतौबा मच जाती है और मरीजों की परेशानी बढ़ जाती है। मरीजाें के परिजनों का कहना था कि सुबह से कोई देखने नहीं अाया है।

 

एनएमसीएच : बढ़ी मरीजों की भीड़, समर्थन में यहां भी हड़ताल की सुगबुगाहट

पीएमसीएच में चल रही जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल काे एनएमसीएच जेडीए ने नैतिक समर्थन दिया है। अध्यक्ष डाॅ. रवि रंजन कुमार रमन ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो यहां भी कार्य बहिष्कार किया जाएगा। इधर, पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के कारण एनएमसीएच में मरीजों की संख्या शनिवार को अधिक रही। करीब दो हजार मरीजों ने रजिस्ट्रेशन कराया। सुबह से ही मरीजों की कतार लगी रही।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिवार में प्रॉपर्टी या किसी अन्य मुद्दे को लेकर जो गलतफहमियां चल रही थी आज वह किसी की मध्यस्थता से दूर होंगी। जिसकी वजह से परिवार का माहौल शांतिपूर्ण हो जाएगा। घर में नवीनीकरण या परिवर्तन सं...

और पढ़ें