• Home
  • Bihar
  • Patna
  • बिहार के विकास में अग्रणी भूमिका थी छोटे साहेब की
--Advertisement--

बिहार के विकास में अग्रणी भूमिका थी छोटे साहेब की

सत्येंद्र नारायण सिन्हा को श्रद्धांजलि देते काॅलेज के सचिव। सिटी रिपोर्टर| औरंगाबाद नगर सीतयोग इंजीनियरिंग...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 02:10 AM IST
सत्येंद्र नारायण सिन्हा को श्रद्धांजलि देते काॅलेज के सचिव।

सिटी रिपोर्टर| औरंगाबाद नगर

सीतयोग इंजीनियरिंग काॅलेज के सभागार में स्व. सत्येन्द्र नारायण सिंह की 100 वीं जयंती मनायी गयी। संस्थान के चेयरमैन कुमार योगेन्द्र नारायण सिंह, सचिव ई. राजेश कुमार सिंह सहित अन्य ने उनके तस्वीर पर माल्यार्पण करते हुए श्रद्धांजलि दी। चेयरमैन ने कहा कि स्व. सत्येन्द्र नारायण सिंह एक भारतीय राजनेता थे। वे बिहार के मुख्यमंत्री भी रहे प्यार से लोग उन्हें छोटे साहब भी कहते थे। वे भारत के स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ, सांसद, शिक्षा मंत्री, जेपी आन्दोलन के स्तंभ थे। मगध विश्वविद्यालय उन्ही कि देन है। संस्थान के सचिव ई. राजेश कुमार सिंह ने कहा कि छोटे साहेब ने बिहार के विकास में अग्रिण भूमिका निभाई थी। अपने मुख्यमंत्रित्व काल में जिले के नबीनगर में सुपर थर्मल पावर परियोजना की सिफारिश की थी। आज जो परियोजना ने विस्तार लिया है। यह उनकी ही परिकल्पना है। छह दशक के राजनीतिक जीवन में छोटे साहब ने कई मील के पत्थर साबित किए थे। संस्थान के कुलसचिव डॉ. एस. एन. सिंह ने इस अवसर पर भावभीनी श्रद्धांजली अर्पित करते हुए कहा कि आज 100 वर्षों बाद भी बिहार उनकी कमी को महसूस कर रहा है। इस मौके पर प्रो० सरोज रंजन, डिप्लोमा प्राचार्य प्रो. अभय कुमार दुबे, डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ. अंजनी कुमार सिंह, डीन एकेडमिक डॉ. पी.के. झा, डिप्लोमा सह प्राचार्य प्रो. धनंजय कुमार, प्रो. समरजीत सिंह, प्रो. धीरज कुमार सिंह, प्रो. नीरज कुमार गिरी, प्रो. सुमन कुमार मिश्र, प्रो. शशांत सहित अन्य थे।