बिहार में बढ़ा सूखे का खतरा, पटना सहित 13 जिलों में 60 से 84% तक कम बारिश / बिहार में बढ़ा सूखे का खतरा, पटना सहित 13 जिलों में 60 से 84% तक कम बारिश

13 जुलाई तक 14% हो सकी है रोपनी, आधा दर्जन जिलों में ही सामान्य बारिश हुई।

Bhaskar News

Jul 16, 2018, 07:50 AM IST
पटना, भोजपुर, वैशाली, सीवान व सा पटना, भोजपुर, वैशाली, सीवान व सा

पटना. सूबे में सूखे का खतरा बढ़ गया है। पूरे राज्य में एक जून से 13 जुलाई तक 36 प्रतिशत कम बारिश हुई है। पटना सहित 13 जिलों में 60 से 86 प्रतिशत तक कम बारिश हुई है। कम बारिश ने रोपनी की रफ्तार पर लगभग रोक ही लगा दी है। रोज किसान आसमां निहार रहे हैं। बिचड़ा भी सूखने लगा है। जहां रोपनी भी हुई है, वहां भी पानी की कमी ने किसानों को बेचैन कर दिया है। सरकार ने कम बारिश को देखते हुए जिलों को वैकल्पिक फसल योजना तैयार रखने का निर्देश दिया है। कम बारिश के कारण अब तक लगभग 14 प्रतिशत ही रोपनी हो सकी है।


कृषि विशेषज्ञों के अनुसार 15 जुलाई तक रोपनी हो, तो धान का उत्पादन अधिक होने की संभावना रहती है। हालांकि कम अवधि वाले धान की रोपनी जुलाई के अंत तक की जा सकती है। विभिन्न जिलों में लगभग 92 प्रतिशत बिचड़ा के लिए धान की बुआई हो चुकी है। महज आधा दर्जन जिलों में ही सामान्य बारिश हुई है। मात्र बांका जिले में सामान्य से थोड़ी अधिक बारिश हुई है। राज्य के विभिन्न जिलों में एक जून से 13 जुलाई तक सामान्य बारिश 316.1 एमएम बारिश होनी चाहिए थी, लेकिन बारिश वास्तविक बारिश 202 एमएम ही बारिश हुई है। रोपनी के महत्वपूर्ण समय में ही बारिश नहीं होना, धान उत्पादन के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं।

22 जिलों में 60% तक कम बारि: पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, शिवहर, दरभंगा, समस्तीपुर, बेगूसराय, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, बक्सर, भभुआ, रोहतास, गया, नवादा, नालंदा, जमुई, लखीसराय, बेगूसराय, समस्तीपुर व दरभंगा।

सामान्य बारिश: पश्चिम चंपारण, सीतामढ़ी, मधुबनी, किशनगंज व भागलपुर

40 रुपए डीजल पर किसानों को अनुदान
सरकार ने बारिश नहीं होने की स्थिति में बिचड़ा और रोपनी वाले खेत में सिंचाई के लिए डीजल सब्सिडी का प्रावधान किया है। डीजल मूल्य में बढ़ोतरी के अनुरूप राज्य सरकार ने प्रतिलीटर 40 रुपए डीजल पर किसानों को अनुदान का प्रावधान किया है। खरीफ मौसम में 34 लाख हेक्टेयर में 153 लाख टन धान उत्पादन का लक्ष्य है।

90 करोड़ की राशि जिलों में भेजी गई

राज्य सरकार ने डीजल अनुदान के लिए 90 करोड़ की राशि जिलों में भेज दी है। कृषि विभाग ने अपने अधिकारियों को निर्देश दिया है किसानों को बिचड़ा लगाने से रोपनी और फसल तैयार होने तक 5 सिंचाई के लिए डीजल सब्सिडी की व्यवस्था है। प्रति एकड़ 40 रुपए प्रति लीटर की दर से 400 रुपए डीजल सब्सिडी देने का प्रावधान है।

122.74 लाख टन उत्पादन का लक्ष्य
खरीफ में कुल 41.20 लाख हेक्टेयर में विभिन्न फसलों की खेती से कुल 122.74 लाख टन उत्पादन का लक्ष्य है। 2017 में 35.90 लाख हेक्टेयर में 84.91 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसकी उपलब्धि अच्छी रही थी। 1.75 लाख हे. में दलहन की खेती से कुल 2.0 लाख मिट्रिक टन का उत्पादन का लक्ष्य है।

X
पटना, भोजपुर, वैशाली, सीवान व सापटना, भोजपुर, वैशाली, सीवान व सा
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना