राज्यपाल का आदेश / मगध विश्वविद्यालय के 138 शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मी होंगे दंडित

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 07:49 PM IST



लालजी टंडन, राज्यपाल, बिहार लालजी टंडन, राज्यपाल, बिहार
X
लालजी टंडन, राज्यपाल, बिहारलालजी टंडन, राज्यपाल, बिहार

  • तीन माह में एक दिन भी बायोमैट्रिक प्रणाली से उपस्थिति दर्ज नहीं करायी

पटना. मगध विश्वविद्यालय के 138 शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मियों पर कार्रवाई होगी। राज्यपाल लालजी टंडन ने गुरुवार को एमयू में बायोमैट्रिक उपस्थिति प्रणाली के उपकरणों से प्राप्त आंकड़ों विश्लेषण के बाद उपस्थिति में गड़बड़ी मामले पर कार्रवाई का निर्देश कुलपति को दिया है। पूरे मामले की जांच कर दोषियों को चिह्नित कर वेतन रोकने के लिए कहा है।

 

जांच में पता चला है कि 138 शिक्षकों और कर्मियों ने अपने कॉलेज व कार्यालय में नवंबर 2018 से जनवरी 2019 के बीच तीन महीने की अवधि में एक दिन भी उपस्थिति दर्ज नहीं करायी है। विश्वविद्यालय में 10 शिक्षकों और 47 शिक्षकेत्तर कर्मियों ने बायोमैट्रिक हाजिरी के लिए अपना नाम भी दर्ज नहीं कराया है। विश्वविद्यालयों के नियमों और यूजीसी के प्रावधानों के अनुसार प्रत्येक कार्य दिवस में शिक्षकों की 5 घंटे अपने शिक्षण संस्थान में उपस्थिति रहना अनिवार्य है। राजभवन ने इस मामले में मगध विवि के कुलपति को पत्र भेज कर कहा है कि बिना काम किए वेतन लेना वित्तीय अनियमितता और अनुशासनहीनता है। गैरकानूनी तरीके से वेतन प्राप्त करने के मामले की संपूर्णता से जांच करना जरूरी है। कुलपति से कहा गया कि वैसे शिक्षकों और शिक्षकेतर कर्मियों के वेतन स्थगन पर गंभीरता से विचार कर निर्णय लें।

 

राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था को दुरूस्त करने और कक्षा में शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने के लिए बायोमैट्रिक उपस्थिति संयंत्र लगवाया गया है। यह उपकरण शोभा की वस्तु बन कर नहीं रह जाए। कुलपति से सभी दोषी शिक्षकों और शिक्षकेतर कर्मियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया। बायोमैट्रिक उपस्थिति प्रणाली के तहत विवि या कॉलेज के शिक्षकों एवं शिक्षकेतर कर्मियों को शत प्रतिशत निबंधित कर उनके द्वारा इस प्रणाली के तहत नियमित तौर पर उपस्थिति दर्ज करान सुनिश्चित कराएं। बायोमैट्रिक से हाजिरी दर्ज नहीं कराने या निबंधित नहीं कराने वाले कर्मियों का वेतन रोकने का भी निर्देश दिया है। दोषियों पर कार्रवाई पर राजभवन ने कुलपति से रिपोर्ट मांगी है।

COMMENT