बिहार / तेजस्वी के ट्वीट से सियासी माहौल गरमाया, महागठबंधन में फिर फंस गया सीटों का पेंच



Mahasangram in Mahagathbandhan for seat sharing.
X
Mahasangram in Mahagathbandhan for seat sharing.

  • राजद-18 और कांग्रेस-11 सीटों पर लड़ सकती है चुनाव
  • रालोसपा और हम सीट शेयरिंग के फॉर्मूले से नाराज

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 02:45 PM IST

पटना. महागठबंधन में सीटों का पेंच अभी सुलझा भी नहीं था कि तेजस्वी के ट्वीट से सियासी माहौल गरमा गया है। सूत्रों के मुताबिक, तेजस्वी के ट्वीट से कांग्रेस आलाकमान में नाराजगी देखी जा रही है। ऐसे में सीटों पर पेंच फिर उलझ गया है। तेजस्वी ने शुक्रवार को एक ट्वीट किया था- "अगर अबकी बार विपक्ष से कोई रणनीतिक चूक हुई तो फिर देश में आम चुनाव होंगे या नहीं, कोई नहीं जानता? अगर अपनी चंद सीटें बढ़ाने और सहयोगियों की घटाने के लिए अहंकार नहीं छोड़ा तो संविधान में आस्था रखने वाले न्यायप्रिय देशवासी माफ नहीं करेंगे।" तेजस्वी फिलहाल दिल्ली में हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात के लिए वक्त मांगा है।

 

5 सीट से कम मंजूर नहीं: रालोसपा
सूत्रों के मुताबिक जब उपेंद्र कुशवाहा एनडीए छोड़कर महागठबंधन में आए थे तो राजद ने उन्हें 5 सीट का आश्वासन दिया था। महागठबंधन में सीट शेयरिंग को लेकर हो रही चर्चा के मुताबिक रालोसपा को 4 सीट मिलने की संभावना है। सीट शेयरिंग के इस फॉर्मूले से रालोसपा नाराज है। पार्टी नेताओं का कहना है कि 5 सीट से कम हमें मंजूर नहीं है। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि पूर्वी चंपारण सीट को लेकर कांग्रेस और रालोसपा के बीच पेंच फंसा है। दोनों पार्टी यहां से चुनाव लड़ना चाहती हैं।

 

सीट शेयरिंग के फॉर्मूल से मांझी भी नाराज
महागठबंधन के अंदर तैयार हुए सीट शेयरिंग के फॉर्मूल से हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी भी नाराज हैं। मांझी का कहना है कि जिस तरह हमारी पार्टी ने तैयारी की है और जातिगत समीकरण हैं- हमें पांच सीट मिलनी चाहिए। पांच से कम सीट मिलने पर क्या करेंगे? राजद और कांग्रेस के बाद हम सबसे बड़ी पार्टी है। इसलिए हम को राजद और कांग्रेस के बाद सबसे अधिक सीट मिलनी चाहिए।

 

महागठबंधन की 40 सीटों का ये गणित संभव

  • राजद-18
  • कांग्रेस-11
  • रालोसपा-4
  • हम (से.)-3
  • वीआईपी-3
  • शरद यादव या पप्पू यादव-1

नोट : वाम दलों के महागठबंधन में आने की संभावना अब कम ही है। अगर ये शामिल हुए तो राजद, कांग्रेस, रालोसपा, वीआईपी या हम की सीट एक-एक कम हो सकती है। हालांकि यह कमी वाम दलों को दी जाने वाली सीटों की संख्या पर निर्भर होगा। पप्पू के लड़ने पर शरद राज्यसभा में जाएंगे।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना