--Advertisement--

पुलिस लाइन कांड / मसलेउद्दीन को पुलिस मुख्यालय भेजा, विभागीय कार्रवाई भी होगी; डीजीपी ने डीएसपी को हटाया



Maseleuddin sent police headquarters
X
Maseleuddin sent police headquarters

  • आने वाले दिनों में विभागीय व अनुशासनिक कार्रवाई भी हो सकती है
  • डीजीपी केएस द्विवेदी ने अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए यह कार्रवाई की

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 04:52 AM IST

पटना. आखिरकार शनिवार को पुलिस लाइन से डीएसपी मो. मसलेउद्दीन को हटा दिया गया। डीजीपी केएस द्विवेदी ने अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए यह कार्रवाई की है। इसके तहत मसलेउद्दीन को मुख्यालय में योगदान देने का निर्देश दिया गया है। आने वाले दिनों में उनके खिलाफ विभागीय व अनुशासनिक कार्रवाई भी हो सकती है। 

 

इस कड़ी में उन्हें कारण बताओ (शोकॉज) नोटिस भी जारी किया जाएगा। दो दिन पहले पटना प्रक्षेत्र के आईजी नैयर हसनैन खान द्वारा पुलिस मुख्यालय को सौंपी गई जांच रिपोर्ट में भी डीएसपी के कार्यों पर अंगुली उठाई गई थी। इन गड़बड़ियों को देखते हुए ही पुलिस मुख्यालय ने डीएसपी को हटाने का आदेश जारी किया है। बीते 2 नवंबर को पुलिस लाइन में हुए सिपाही विद्रोह के पीछे आरोपों के केंद्र में डीएसपी मसलेउद्दीन ही थे।

 

बहरहाल, पुलिस लाइन कांड में किसी बड़े अफसर के खिलाफ यह पहली कार्रवाई है।  इससे पूर्व उपद्रव को लेकर जोनल आईजी के आदेश पर 167 ट्रेनी सिपाहियों समेत कुल 175  पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया गया था। साथ ही पुलिस मुख्यालय ने लाइन में  वर्षों से जमे 92 जवान व अफसरों को स्थानांतरित कर दिया था।

 

एक दशक से लाइन में जमे थे मसलेउद्दीन : डीएसपी मसलेउद्दीन एक दशक से पुलिस लाइन में ही जमे थे। पहले सार्जेंट मेजर से मेजर बने। फिर डीएसपी में प्रमोशन हुआ पर तबादला नहीं हुआ था। उपद्रव के दौरान सिपाहियों ने उनके ऑफिस- आवास में तोड़फोड़ की थी। डीएसपी को भी घायल कर दिया था। 

 

अब एक एसपी पर भी कार्रवाई की तैयारी : इस बीच पुलिस उपद्रव कांड में कार्रवाई की आंच एक एसपी तक भी पहुंच सकती है। संबंधित एसपी पर पुलिस लाइन के निरीक्षण की जिम्मेवारी है। आईजी की जांच रिपोर्ट में डीएसपी की गड़बड़ियों के साथ ही एसपी की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े किए गए हैं।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..