• Home
  • Bihar
  • Patna
  • Patna - जेम पोर्टल से खरीदारी के लिए विभागों में प्रशिक्षित किए जाएंगे मास्टर ट्रेनर
--Advertisement--

जेम पोर्टल से खरीदारी के लिए विभागों में प्रशिक्षित किए जाएंगे मास्टर ट्रेनर

राज्य में चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 के शुरुआत से ही जेम (वन स्‍टॉप गवर्नमेंट ई-मार्किट प्‍लेस) पोर्टल से सभी तरह के...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 05:06 AM IST
राज्य में चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 के शुरुआत से ही जेम (वन स्‍टॉप गवर्नमेंट ई-मार्किट प्‍लेस) पोर्टल से सभी तरह के सरकारी खरीद को अनिवार्य कर दिया गया है। लेकिन, अबतक यह योजना पूरी रफ्तार नहीं पकड़ पाई है। राज्य सरकार ने सभी विभागों के प्रधान सचिव और सचिव को जेम पोर्टल से ही खरीदारी करने का निर्देश दिया है। इतना नहीं सरकार ने सभी विभागों को इसमें प्रशिक्षण लेने के लिए मास्टर ट्रेनर नियुक्ति करने के लिए भी कहा है। अभी तक राज्य में जेम पोर्टल पर 1300 सेलर का पंजीकरण हुआ है। करीब 50 करोड़ रुपए की खरीदारी हुई है। वहीं 50 करोड़ रुपए की खरीदारी प्रक्रिया में है। क्रेता और विक्रेता के बीच जागरुकता बढ़ाने के लिए वित्त विभाग सोमवार को पटना में सेमिनार करने जा रहा है। बिहार देश का पहला राज्य है, जिसने कम समय में जेम पुल एकाउंट के सिद्धांत को अपनाते हुए इस पर अमल भी किया है। बिहार जेम पर अच्छा काम करने के लिए टॉप बायर 2018 अवाॅर्ड मिल चुका है।

अाज पटना में सेमिनार

वित्त विभाग ने सोमवार को पटना में जेम पर सेमिनार का आयोजित किया है। इसका उद्‌घाटन उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी करेंगे, जबकि इसमें जेम के एडिशनल सीईओ सुरेश कुमार, डिप्टी सीईओ निर्मल कुमार भाग लेंगे। वहीं सभी विभागों के प्रधान सचिव और सचिव को निमंत्रण दिया गया है। मुख्य सचिव दीपक कुमार ने शुक्रवार को सभी विभागों के प्रधान सचिव और सचिव से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग कर इसमें भाग लेने और अपने विभाग के लिए मास्टर ट्रेनर के लिए अधिकारियों को नामित करने का निर्देश दिया है।

क्या है जेम और इसकी विशेषता

वन स्टॉप गवर्नमेंट ई-मार्किट प्लेस का संक्षिप्त नाम है जेम, जहां सामान्यतया प्रयोक्ता वस्तुओं और सेवाओं की खरीद की जा सकती है। भारत सरकार ने इस खरीद-बिक्री की ऑनलाइन प्रक्रिया शुरू की है। केंद्र और देश के कई राज्यों ने अपनी खरीद नीति में इसे शामिल कर लिया है। यह सरकारी अधिकारियों द्वारा खरीद के लिए जेम का उपयोग किया जा सकता है। यह खरीद-बिक्री का सिंगल विंडो सिस्टम है। यह प्लेटफार्म पारदर्शिता से खरीद-बिक्री की सुविधा देता है। जेम में ऑर्डर देने के लिए www.gem.gov.in और www.dgsnd.gov.in पर लॉग-इन करना होता है।

ऑनलाइन बिडिंग/रिवर्स ऑक्शन भी

जेम पर उपलब्ध किसी भी आपूर्तिकर्ता, जो अपेक्षित गुणवत्ता, विनिर्दिष्‍टियां और डिलीवरी अवधि को पूरा करते हों, के माध्यम से 50 हजार रुपए तक की खरीदारी की जा सकती है। इसके लिए किसी के एप्रूवल की जरूरत नहीं होती है। वहीं 50,000 रुपए से अधिक की खरीदारी के लिए विभागीय स्तर पर एप्रूवल की जरूरत पड़ती है। जेम ऑनलाइन बिडिंग/ऑनलाइन रिवर्स ऑक्शन के लिए साधन भी उपलब्ध कराएगा, जिनका क्रेता द्वारा प्रयोग किया जा सकता है।

क्रेता-विक्रेता दोनों के लिए फायदेमंद

जेम प्लेटफाॅर्म पर खरीद-बिक्री क्रेता और विक्रेता दोनों के लिए फायदेमंद है। विक्रेता अपनी वस्तुओं की कीमत अधिकतम खुदरा मूल्य से कम से कम 10 फीसदी नीचे कोट करेगा। सबसे कम मूल्य कोट करने वाले को ऑनलाइन प्लेटफाॅर्म पर ऑर्डर ऑटोमेटिक चला जाएगा। मूल्य की राशि क्रेता के खाते में ब्लॉक कर दी जाएगी। सेवा या वस्तु की आपूर्ति होने के बाद जब क्रेता कन्फर्म कर देगा तो विक्रेता को स्वतः 80 फीसदी राशि की आपूर्ति हो जाएगी।