यादगार बन गई मेहंदार महोत्सव की रात, दर्शकों की दिल में उतरी तृप्ति शाक्या की सुरीली आवाज

Patna News - मेंहदार महोत्सव की रात जिले के लोगों के लिए यादगार बन गई। इस विशाल मंच पर सीवान जिले के अलावा तृप्ति...

Feb 22, 2020, 09:25 AM IST
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience

मेंहदार महोत्सव की रात जिले के लोगों के लिए यादगार बन गई। इस विशाल मंच पर सीवान जिले के अलावा तृप्ति शाक्या,दीक्षा तुर,किशोर भंसाली जैसे नामचीन कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का खुलकर प्रदर्शन किया। यह महोत्सव जिले की प्रतिभाओं को तराशने और उन्हें उभारने को एक सशक्त मंच बन गया ।इस महोत्सव में कला, गीत, संगीत और गायन की प्रतिभाओं ने अपने जलवे बिखेरने का काम किया।

महोत्सव की सुरमयी रात मे समूचा पांडाल श्रोताओं से खचाखच भरा हुआ। संगीत की हल्की स्वर लहरियों के बीच देश की प्रख्यात भजन गायिका तृप्ति शाक्या जैसे ही मंच पर आईं समूचा पांडाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। पूरे कार्यक्रम के दौरान तृप्ति शाक्या ने भी श्रोताओं को बार-बार झुमने पर विवश कर दिया। उन्होंने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से हुआ। मंच पर आते ही उन्होंने सत्यम शिवम सुन्दरम गाकर भोलेनाथ की नगरी मे आयोजित कार्यक्रम में भक्ति की रसधारा बहाई।

‘’कभी राम बन के कभी श्याम बन के..’’ भजन से देश भर में ख्याति पाने वाली गायिका तृप्ति शाक्या ने जैसे ही इस प्रस्तुति को दी, हर कोई सुध-बुध खोकर संगीत के साथ ही ताल देने लगा। इस बीच तमाम लोग ठुमका लगाते भी नजर आए। हर तरफ तृप्ति तृप्ति की ही आवाज आ रही थी। कारवा कहा रुकने वाला था। ‘’कला निकेतन के कलाकारों ने बाल्मीकि ने रची रामायण गीत गाकर बिहार की महत्ता पर प्रकाश डाला। लोगों की मांग पर तृप्ति ने शिव आरती गंगा आरती गाया। रात के परवान चढ़ते ही श्रोताओं की मस्ती देखते ही बनती थी। एक से एक भजन प्रस्तुति कर उन्होंने पंडाल में बैठे हर एक व्यक्ति को भक्ति भावना से ओतप्रोत कर दिया।

नृत्य और संगीत ने किया मंत्रमुग्ध

रॉकस्टार दीक्षा तूर की नृत्य व गायन ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया ।मंच पर आते ही मेरे रश्के कमर की प्रस्तुति पर दर्शक भावविभोर हो गए। दीक्षा तुर ने मेरा चैन वैन सब उजड़ा, तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त, ऊंची तेरी बिल्डिंग लिफ्ट तेरी बंद है ,सुन मेरी राधा बन मेरी राधा राधा, दिल चोरी साड्डा हो गया गाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। उनके द्वारा प्रस्तुत कजरा मोहब्बत वाला तथा झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में दर्शकों को अपने जगह खड़ा हो झूमने को त विवश कर दिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रही धूम, दीक्षा तूर और किशोर भंसाली के गीत पर झूमते रहे लोग

मेहंदार महोत्सव पर देवी के गीत गाती कलाकार

रॉकस्टार दीक्षा तूर को सम्मानित करतीं सांसद कविता सिंह।

कला निकेतन सीवान के कलाकारों द्वारा महज 5 मिनट में विवाह तथा जन्म संस्कार पर आधारित प्रस्तुति गाय के गोबर महादेव ,जल्दी-जल्दी चल रे कहरा... जुग-जुग जिअ हो ललनवा.. की प्रस्तुति, खेती-किसानी को लेकर प्रस्तुत कार्यक्रमों को दर्शकों ने खूब सराहा।


{बनारस घराने के रूद्र शंकर मिश्र और माता प्रसाद ने कथक नृत्य के तीन ताल द्वारा घोड़े की टाप व घुंघरू तबला की जुगलबंदी से बारिश होने का एहसास कराया तो दर्शक वाह-वाह कहने लगे। जूनियर देवानंद किशोर भंसाली की हास्य प्रस्तुति पर दर्शक हंसते-हंसते लोटपोट हो गए। उन्होंने
कहा कि

हर सफल आदमी के पीछे एक औरत का हाथ

हर असफल आदमी के पीछे दो औरत का हाथ होता है।

वह बाग ही क्या जिसमें माली ना हो

वह ससुराल ही क्या जिसमें साली ना हो

गर्लफ्रेंड को लोग यू ही मिस किया करते हैं

मिस तो मच्छरों को करो जो जान हथेली पर रखकर किस किया करते हैं, खुदा करे आपको वह बीमारी लगे आप बुढ़ापे में भी कुंवारी लगे

Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
X
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience
Sisvan News - mehandar festival night became memorable satiety sound of satiety shakya in audience

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना