विज्ञापन

मानसिक बीमारी है आत्महत्या का बड़ा कारण, बच्चों पर नजर रखें अभिभावक / मानसिक बीमारी है आत्महत्या का बड़ा कारण, बच्चों पर नजर रखें अभिभावक

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:41 AM IST

Patna News - विश्व में आत्महत्या के जितने मामले सामने आते हैं, उनमें 60-70 फीसदी लोग मानसिक बीमारी से पीड़ित होते हैं। इसलिए...

Patna News - mental illness is a big cause of suicide keep an eye on children parents
  • comment
विश्व में आत्महत्या के जितने मामले सामने आते हैं, उनमें 60-70 फीसदी लोग मानसिक बीमारी से पीड़ित होते हैं। इसलिए माता-पिता को बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखनी चाहिए। मानसिक बीमारी को छिपाए नहीं, तुरंत इलाज कराएं। जितनी जल्दी इलाज शुरू होगा रिजल्ट उतना ही बढ़िया मिलेगा। यदि परिजन, दोस्त, रिश्तेदार के व्यवहार में बदलाव दिखे तो उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। स्कूल-काॅलेज में भी छात्रों को बताया जाना चाहिए कि क्या अच्छा है और क्या गलत। इससे छात्रों में गलत आदत की गुंजाइश नहीं रहेगी। यह कहना है आगरा के मनोचिकित्सक डॉ. यूसी गर्ग का। वे शनिवार को इंडियन साइकेट्री सोसाइटी की ओर से आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। संगोष्ठी में चर्चा का विषय था-प्रोमोटिंग मेंटल हेल्थ-प्रिवेंटिंग मेंटल इलनेस फॉर ऑल।

सोसाइटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बेंगलुरु के डॉ. अजित वी भिड़े ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत कुछ करने की जरूरत है। मेंटल हेल्थ के लिए काफी कम बजट है। इसके बजट को बढ़ाने की जरूरत है। स्वास्थ्य बजट का सिर्फ 0.6 फीसदी ही मेंटल हेल्थ पर खर्च किया जाता है। सोसाइटी के सचिव डॉ. विनय कुमार ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य को स्वस्थ रखना बेहद जरूरी है। यदि मानसिक स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेगा तो पीड़ित व्यक्ति बेहतर काम भी नहीं कर सकता है। कोलकाता के डॉ. ओपी सिंह ने कहा कि इस बीमारी से बचाव पर ध्यान देने की जरूरत है। शुरू में ही इस बीमारी को पहचान करने की जरूरत है। डॉ. जगदीश तीर्थाली ने कहा कि शुरू में ही पहचान की गई बीमारी के मिले नतीजे की जानकारी दी।

100 मनोचिकित्सक शामिल : संगोष्ठी को मोरादाबाद के डॉ. नगेंद्रन, दिल्ली एम्स के डॉ. अतुल अंबेदकर लखनऊ के डॉ. आदर्श त्रिपाठी, बेंगलुरु के डॉ. सी नवीन ने मानसिक बीमारी पर विस्तार से चर्चा की और अपने अनुभव शेयर किए। संगोष्ठी में देश के करीब 100 मनोचिकित्सक कर रहे हैं। अन्य वक्ताओं में आयोजन सचिव डॉ. संतोष कुमार, आईजीआईएमएस के डॉ. राजेश कुमार, डॉ.सीएल नारायण,डॉ.एल एन भदलमणी, डॉ. पंकज कुमार, डॉ. शशि राय आदि शामिल थे।

X
Patna News - mental illness is a big cause of suicide keep an eye on children parents
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन