पटना / जलजमाव की जांच के लिए मंत्री सुरेश शर्मा ने 17 घंटे पहले कमेटी बनाई, डिप्टी सीएमने इसे अफवाह कहा

मंत्री सुरेश शर्मा मंत्री सुरेश शर्मा
X
मंत्री सुरेश शर्मामंत्री सुरेश शर्मा

  • उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने जब इसे अफवाह कहा तो इसके घंटे भर बाद सुरेश कमेटी से पलट गए
  • उन्होंने कहा-‘14 अक्टूबर को जलजमाव के मसले पर मुख्यमंत्री बैठक करेंगे

दैनिक भास्कर

Oct 12, 2019, 08:12 AM IST

पटना. राजधानी पटना में जलजमाव के कारण और जिम्मेदारों की पहचान के मोर्चे पर, खासकर नगर विकास विभाग ने सिस्टम को असहज स्थिति में ला दिया। दरअसल, 17 घंटा पहले नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने जलजमाव के कारणों को जांचने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई। 16 घंटे बाद उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने जब इसे अफवाह कहा तो इसके घंटे भर बाद सुरेश कमेटी से पलट गए; उन्होंने कहा-‘14 अक्टूबर को जलजमाव के मसले पर मुख्यमंत्री बैठक करेंगे। इसके बाद आगे की बात तय होगी।’
 

इसलिए नगर विकास मंत्री ने वापस लिया आदेश

मंत्री ने कमेटी तब बनाई जब यह तय हो गया था कि खुद सीएम 14 को इसी मसले पर बैठक करेंगे। जाहिर तौर पर इस बैठक में वही मसले उठते, जिसको जांचने का जिम्मा मंत्री ने कमेटी को दिया था। यानी, बैठक से पहले ही जांच, इसकी जिम्मेदारी। इसे दोहराव या एक ही मसले पर सिस्टम की दो समानांतर लाइन मानी गई। नतीजतन, मंत्री ने अपनी कमेटी वापस ले ली। 
 

कमेटी बनाने की बात सही नहीं, सीएम की समीक्षा से पहले कैसे होगी कोई जांच

मंत्री शर्मा ने डिप्टी सीएम के रुख के बाद ऐसा किया। जेपी जयंती समारोह के बाद मीडिया से मुखातिब मोदी ने कहा कि ‘जलजमाव के कारणों का पता लगाने के लिए कमेटी बनाने की बात अफवाह है। जब मुख्यमंत्री खुद विभाग की समीक्षा करने वाले हैं, तब तक कोई जांच कैसे होगी और उसमें वे ही अधिकारी कैसे शामिल हो सकते हैं जिन पर ऊंगली उठ रही है।’ इसी के बाद मंत्री ने ऐसे किसी आदेश से इनकार किया। कहा- ‘जलजमाव की जांच के लिए कमेटी नहीं बनी है। 14 को सीएम हाउस में बैठक होनी है। विभाग की तरफ से कमेटी का प्रपोजल आया था। लेकिन, उसका नोटिफिकेशन नहीं हुआ है। बैठक के बाद ही जलजमाव की जांच को लेकर किसी कमेटी का गठन करने पर फैसला होगा।’ 
 

ये थी तीन सदस्यीय कमेटी
मंत्री द्वारा बनाई गई कमेटी में नगर विकास विभाग के विशेष सचिव संजय कुमार, बुडको के प्रबंध निदेशक अमरेंद्र प्र. सिंह और नगर निगम के आयुक्त अमित पांडेय थे। कमेटी को जांचना था कि किन-किन क्षेत्रों में जलजमाव हुआ? मुख्य वजह क्या रही? कौन पदाधिकारी और अभियंता जिम्मेदार हैं? कौन-कौन से संप हाउस कार्यरत नहीं रहे? इसके लिए कौन जिम्मेदार हैं?

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना