एमवी एक्ट / वाहन चेकिंग और चालान काटने का मेगा अभियान बंद, चालकों को कुछ राहत भी



Motor Vehicle Act: Mega campaign for vehicle checking and challan closure in Bihar
X
Motor Vehicle Act: Mega campaign for vehicle checking and challan closure in Bihar

  • डीएम बोले -हेलमेट और प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र लेने का वादा किया तो फाइन नहीं
  • आयुक्त ने कहा -अब अतिक्रमण हटाओ अभियान पर फोकस, रूटीन जांच चलेगी

Dainik Bhaskar

Sep 14, 2019, 04:26 AM IST

पटना. वाहन चेकिंग और चालान काटने का मेगा अभियान शुक्रवार से बंद हाे गया। यह अभियान 6 से 12 सितंबर तक ही था। इस बीच बाइक व कार चालकाें काे जिला प्रशासन ने कुछ राहत दी है। चेकिंग के दौरान बाइक चलाने वाले बिना हेलमेट के पकड़े गए तो उन्हें यह वादा करना होगा कि हेलमेट खरीद लेंगे। इस शर्त पर उन्हें एक हजार का जुर्माना नहीं देना होगा।

 

वहीं अगर बाइक व कार का प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट फेल हो गया है तो उन्हें वादा करना होगा कि वे जल्द वाहन की जांच कराकर प्रदूषण सर्टिफिकेट ले लेंगे तो उन्हें भी 10 हजार फाइन नहीं भरना होगा। जिला प्रशासन राजधानी के कुछ स्थानों पर वाहन एजेंसी के द्वारा हेलमेट रखेगा जहां से वाहन चालकों को खरीदने को कहा जाएगा। वैसे बाइक चालक कहीं से भी हेलमेट खरीदने का स्वतंत्र हैं।

 

इसी तरह प्रशासन शहर के कुछ चयनित स्थानों पर प्रदूषण जांच केंद्र भी खुलवाएगा जहां से वाहन चालक वाहनों की जांच कराने के बाद पॉल्युशन अंडर कंट्रोल का सर्टिफिकेट ले लेंगे। जिला प्रशासन ने शुक्रवार की रात अहम बैठक कर ये फैसले लिए। बैठक में प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर, डीएम कुमार रवि, ट्रैफिक एसपी समेत कई अधिकारी मौजूद थे। 
 

ट्रैफिक नियमावली का पालन करने के लिए चलेगी जागरुकता मुहिम

 

डीएल, आरसी के नहीं रहने पर छूट नहीं, भरना हाेगा जुर्माना
जिला प्रशासन लोगों को ट्रैफिक नियमावली का पालन करने के लिए जागरुकता अभियान भी चलाएगा। हेलमेट और पॉल्युशन को छोड़ डीएल, आरसी के नहीं रहने और इंश्योरेंस फेल रहने, सीट बेल्ट नहीं बांधने पर नए कानून के तहत जुर्माना देना होगा। इसमें कोई छूट नहीं दी गई है। यही नहीं 6 से 12 सितंबर तक प्रशासन ने चेकिंग के लिए जो मेगा अभियान शुरू किया था, वह बंद हाे गया है। पहले की तरह नॉर्मल चेकिंग होगी।

 

हेलमेट और प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र में इसलिए दी छूट
दरअसल 6 सितंबर से ही वाहन चेकिंग के दौरान वाहन चालकों व पुलिस के बीच कई बार भिड़ंत हो चुकी है। गुरुवार को एग्जीबिशन रोड पर वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस ने लोगों के साथ जो बदसलूकी की अाैर मारपीट करने के साथ गिरफ्तार 11 लोगों को जेल भेज दिया, इससे पुलिस व प्रशासन की किरकिरी हुई। समझा जा रहा है कि इसी को देखते हुए प्रशासन ने वाहन चालकों को कुछ राहत दी है।

 

झारखंड ने वाहन जांच पर 3 महीने तक लगाई राेक

झारखंड ने नए ट्रैफिक रूल के तहत हो रही वाहनों की जांच पर अगले 3 माह तक रोक लगा दी है। सीएम रघुवर दास ने कहा कि इस अवधि में सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान चलाए जाएगा ताकि लाेग नए प्रावधानों एवं नियमों से भलीभांति अवगत हो सकें तथा लोग अपने वाहनों का कागजात अद्यतन करा सके।


पश्चिम बंगाल समेत सात राज्याें में कानून लागू ही नहीं

नए ट्रैफिक रूल-2019 की उच्च पेनाल्टी दरों के मद्देनजर, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, तेलंगाना, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र जैसे राज्यों ने इसे लागू ही नहीं किया है। गुजरात, पहला राज्य है फाइन घटा दिया है।

 

  • मेगा वाहन चेकिंग 6 से 12 सितंबर तक था, वह अब खत्म हो गया है। वाहन चेकिंग में तैनात 200 जवानों को अब अतिक्रमण हटाओ अभियान में लगाया जाएगा। - आनंद किशोर, प्रमंडलीय आयुक्त
  • बिना हेलमेट पकड़े गए बाइक सवार को हेलमेट खरीदने का वादा करना होगा। पॉल्युशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट बनाने का वादा करने पर उनसे जुर्माना नहीं लिया जाएगा। शहर के कुछ स्थानों पर हेलमेट व प्रदूषण जांच केंद्र खोला जाएगा। ट्रैफिक रूल्स से अवगत कराने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा।- कुमार रवि, डीएम, पटना
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना