विज्ञापन

पटना आया दिल्ली के होटल में आग लगने से मृत एचपीसीएल के एजीएम का शव

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 04:42 AM IST

Patna News - पटना के नेहरूनगर में रहने वाले एचपीसीएल के सहायक महाप्रबंधक प्रणब कुमार भास्कर का शव बुधवार को एयर इंडिया के...

Patna News - murder of the agc of hpcl dead on fire in delhi hotel in patna
  • comment
पटना के नेहरूनगर में रहने वाले एचपीसीएल के सहायक महाप्रबंधक प्रणब कुमार भास्कर का शव बुधवार को एयर इंडिया के विमान से आया। हैदराबाद में पदस्थापित प्रणब की मौत मंगलवार की सुबह दिल्ली के करोलबाग स्थित होटल अर्पित में आग लगने से हुई थी। वे 11 से 13 फरवरी तक आयोजित पेट्रो टेक 2019 में शामिल होने दिल्ली गए थे। नेहरूनगर स्थित सनराइज कमला रेखा श्री अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 402 में उनके पिता और मां रहती हैं। पिता कृष्ण गोपाल प्रसाद इलेक्ट्रिकल कंसल्टेंट और मां सुनीला गुलजारबाग में नर्स हैं। पटना एयरपोर्ट से शव उनके फ्लैट में लाया गया। शव पहुंचते ही मां, प|ी व अन्य परिजन दहाड़ मारकर रोने लगे। शाम में दीघा घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। छोटे भाई अभिनव कुमार भास्कर ने मुखाग्नि दी। प्रणब मूल रूप से नालंदा के बिंद के रहने वाले थे। 5 साल पहले उनकी शादी नालंदा के अस्थावां थाने के ओंदी गांव निवासी एमपी सिन्हा की बेटी दीपिका कुमारी से हुई थी। प्रणब को दो बच्चे हैं। बड़ा बेटा कृषभ तीन साल व छोटा एक साल का है।

मृतक प्रणव कुमार भास्कर का फाइल फोटो (बाएं) और पाटलिपुत्र स्थित आवास पर रोते बिलखते परिजन (दाएं)।

हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज से कराई जाए जांच

शव के साथ प्रणब के पिता व मां पटना पहुंचे। शव आने से पहले ही उनकी प|ी और बच्चे फ्लाइट से पटना पहुंचे। शव लेने के लिए पहले से ही कई परिजन व एचपीसीएल के अधिकारी एयरपोर्ट पर मौजूद थे। उनके पिता ने कहा कि इस मामले की जांच हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज से कराई जाए ताकि पता चल सके कि उस होटल की क्या लापरवाही रही। उन्होंने कहा कि प्रणब की मौत जलने से नहीं हुई है। उसका केवल एक हाथ मामूली रूप से जला था। आग लगने के बाद वह कमरा से निकला और जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगा। कॉरिडोर पूरी तरह शीशे से पैक था। उसकी मौत दम घुटने से हुई। होटल में बचाव की कोई व्यवस्था नहीं थी। घटना के बाद बिहार सरकार का काेई अधिकारी मिलने तक नहीं आया। दिल्ली के डीसीपी को फोन किया, लेकिन उन्होंने भी कोई मदद नहीं की। पिता व परिजनों ने कहा कि एचपीसीएल का गेस्ट हाउस दिल्ली व नोएडा में है। ग्रेटर नोएडा में कार्यक्रम था, तो फिर वहां से 60 किलोमीटर दूर इतने घटिया होटल में क्यों ठहराया गया?

23 को था प्रणब के छोटे बेटे का जन्मदिन

कृष्ण गोपाल ने बताया कि दिल्ली आने के बाद प्रणब से अंतिम बार 11 फरवरी को बात हुई थी। मंगलवार की सुबह पता चला कि होटल अर्पिता में आग लगी है। मुझे जानकारी नहीं थी कि वह उसी होटल में ठहरा है। फिर पता चला कि उसकी मौत हो गई है। उसके बाद प|ी के साथ दिल्ली गए। वहां के अधिकारियों ने कुछ मदद नहीं की। घंटों बाद बेटे का शव देख सके। 23 फरवरी को छोटे बेटे का जन्मदिन है। उसमें हैदराबाद जाने वाले थे।

X
Patna News - murder of the agc of hpcl dead on fire in delhi hotel in patna
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन